Top 20 लॉ कॉलेज इन इंडिया: ये हैं भारत के टॉप लॉ कॉलेज, एडमिशन लिया तो मिलेगी नौकरी

Prakash Gupta
4 Min Read

राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय में प्रवेश: अगर आप भी कानून की पढ़ाई कर रहे हैं तो यह खबर आपके लिए बेहद जरूरी है। जो कोई भी कानून में अपना करियर बनाना चाहता है उसे लॉ यूनिवर्सिटी के बारे में जरूर पता होना चाहिए। लेकिन लॉ यूनिवर्सिटी में आपको आसानी से एडमिशन नहीं मिलता है, इसके लिए आपको सबसे पहले CLAT की परीक्षा देनी होगी, जिसका पूरा नाम कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट है।

ये सभी विश्वविद्यालय बार काउंसिल ऑफ इंडिया से संबद्ध हैं और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा मान्यता प्राप्त हैं। इन सभी विश्वविद्यालयों में स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए 3451 सीटें उपलब्ध हैं, जबकि स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के लिए 1271 सीटें उपलब्ध हैं।
नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, जिसे नेशनल लॉ स्कूल ऑफ़ इंडिया यूनिवर्सिटी, बैंगलोर के नाम से भी जाना जाता है, की स्थापना वर्ष 1986 में हुई थी। बाद में इसकी तर्ज पर देश के कई अन्य राज्यों में भी लॉ यूनिवर्सिटी की स्थापना की गई। यूजीसी के नियमों के अनुसार, एक लॉ यूनिवर्सिटी केंद्र या राज्य सरकार द्वारा खोली जाती है। लेकिन इसका दायरा संबंधित सरकार द्वारा तय किया जाता है।

2018 तक देश में 23 राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय खोले जा चुके हैं। लेकिन प्रत्येक विधि विश्वविद्यालय को राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय कहा जाएगा भले ही वह राज्य सरकार द्वारा खोला गया हो। उदाहरण के लिए, नेशनल लॉ स्कूल ऑफ़ इंडिया यूनिवर्सिटी बैंगलोर की स्थापना कर्नाटक अधिनियम 1986 के तहत की गई थी, NALSAR यूनिवर्सिटी ऑफ़ लॉ (द नेशनल एकेडमी ऑफ़ लीगल स्टडीज़ एंड रिसर्च) की स्थापना आंध्र प्रदेश अधिनियम 1998 के तहत की गई है।

अन्य कॉलेज अधिक शुल्क क्यों लेते हैं?

दरअसल, हर लॉ कॉलेज राज्य सरकारों द्वारा खोला जाता है और उन्हें समय-समय पर सरकार से अनुदान मिलता रहता है। लेकिन इन विश्वविद्यालयों की फीस अन्य प्राइवेट या अन्य लॉ कॉलेजों की तुलना में कम है। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि राज्यों के अधिकांश कानून विश्वविद्यालयों के कुलपति उन राज्यों के उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीश होते हैं। लेकिन कुछ राज्यों में यह पद मुख्यमंत्री के पास भी होता है।

देश में कहाँ-कहाँ विश्वविद्यालय हैं?

  • नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी, बैंगलोर (1986)
  • NALSAR यूनिवर्सिटी ऑफ लॉ, हैदराबाद (1998)
  • नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी, भोपाल (1997)
  • पश्चिम बंगाल राष्ट्रीय न्यायिक विज्ञान विश्वविद्यालय, कोलकाता (1999)
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, जोधपुर (1999)
  • हिदायतुल्लाह नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, रायपुर (2003)
  • गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, गांधीनगर (2003)
  • डॉ. राम मनोहर लोहिया राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, लखनऊ (2005)
  • नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ़ एडवांस्ड लीगल स्टडीज़, कोच्चि (2005)
  • राजीव गांधी राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, पटियाला (2006)
  • चाणक्य नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, पटना (2006)
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, दिल्ली (2007)
  • दामोदरम संजीवय्या नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, विशाखापत्तनम (2008)
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, ओडिशा, कटक (2009)
  • नेशनल लॉ स्कूल और न्यायिक अकादमी असम, गुवाहाटी (2009)
  • नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ स्टडी एंड रिसर्च इन लॉ रांची (2010)
  • तमिलनाडु नेशनल लॉ स्कूल, तिरुचिरापल्ली (2013)
  • महाराष्ट्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, मुंबई (2014)
  • महाराष्ट्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, नागपुर (2015)
  • हिमाचल प्रदेश राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, शिमला (2016)
  • महाराष्ट्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, औरंगाबाद (2017)
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, जबलपुर (2018)
  • डॉ. बीआर अंबेडकर नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, सोनीपत, हरियाणा (2018)
Share This Article