देश दुनिया

शादी में समस्या और बच्चों की नींद तोड़ने वाले Loudspeaker पर बनी फिल्म रिलीज को तैयार The film on Loudspeaker, who broke the sleep of children and problems in marriage, is ready for release

इन दिनों भारतीय राजनीति में लाउडस्पीकर (loudspeaker) की अजान और हनुमान चालीसा(Hanuman Chalisa) को लेकर तीखी बहस छिड़ी हुई है. जहां बहुत से लोगों द्वारा लाउडस्पीकर पर रोक लगाने की मांग को लेकर राज्य सरकारों ने अमल किया और इन्हें हटवा दिया. इसी बीच लाउडस्पीकर की अजाम पर आधारित एक फिल्म आने वाली है जिसे लेकर भी टीनी चैनल्स पर डिबेट होने लगी है. बहुत से लोग इस फिल्म को भड़काऊ बता रहे हैं और इसके रिलीज को रोकने पर तुले हुए हैं. हालांकि, इसके थिएटर्स में आने की तारीख आ चुकी है. फिल्म का ट्रेलर पहले से ही चर्चा में हैं और लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रियाएं मिल रही है.

कुछ ऐसा है Bhonga का ट्रेलर

एक शादी से पहले की बारात (pre-wedding procession) एक मस्जिद से गुजरते हुए जश्न मनाती है, लेकिन जब शादी होती है तब मस्जिद से मौत की लाउडस्पीकर (loudspeaker) की घोषणा से रस्म खत्म हो जाती है. इससे वहां जमा लोग नाराज हो गए, जिससे लाउडस्पीकर के इस्तेमाल पर बहस छिड़ गई. ऐसा दृश्य भोंगा के ट्रेलर (Bhonga Trailer) में दिखता है जिसने ‘सर्वश्रेष्ठ मराठी फिल्म’ (best Marathi film) के लिए 2019 का राष्ट्रीय पुरस्कार जीता है.

लाउडस्पीकर पर छिड़ी बहस के बीच रिलीज हो रही Bhonga

इसी बीच निर्माता अमोल कगने (Producer Amol Kagane) ने कहा कि उन्होंने कुछ समय पहले फिल्म बनाई थी और यह एक ‘संयोग’ है कि ये 3 मई को रिलीज होगी, जब मस्जिदों में लाउडस्पीकर के इस्तेमाल पर राजनीतिक बहस तेज हो चुकी है. कगने ने ET को बताया, ‘मेरी फिल्म लाउडस्पीकर से समस्या पैदा करने के मुद्दे पर है, जिनमें ज्यादातर नवजात शिशु हैं, जिनकी नींद का पैटर्न अज़ान के कारण बाधित होता है और इसके बाद एक गांव में बहस होती है.’

धार्मिक मुद्दा नहीं सोशल इशु को दर्शाएगी Bhonga

फिल्म ने पहले ही सोशल मीडिया पर कई यूजर्स का अटेंशन लिया है और इसे देखने के लिए लोग बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. कागने ने दावा किया कि उनकी फिल्म का उद्देश्य ‘धार्मिक नहीं, बल्कि एक सामाजिक मुद्दे को संबोधित करना’ है. ‘अब कोई गर्म माहौल नहीं है; केवल एक समुदाय इसे गर्म करने की कोशिश कर रहा है. यदि आप फिल्म देखते हैं, तो यह मंदिरों और विवाह समारोहों में लाउडस्पीकर के प्रभाव के बारे में भी बताता है. लेकिन हमने अज़ान पर अधिक ध्यान केंद्रित किया है, क्योंकि फिल्म समुदाय के नरम दिल वाले सदस्यों और कट्टरपंथियों के बीच एक कम्प्टिशन को दर्शाती है.’

ट्रेलर रिलीज के बाद Bhonga के मेकर को मिली धमकियां

कगने ने ये आगे कहा, ‘हम पिछले दो सालों में कोविड -19 के कारण फिल्म की स्क्रीनिंग नहीं कर सके, अब रिलीज पूरी तरह से संयोग है. 2019 में भारत में कोई महामारी नहीं थी.’ उन्होंने कहा कि ‘फिल्म के ट्रेलर रिलीज होने के बाद, मुझे धमकियां मिलीं. यूजर्स के द्वारा मुझे मिले-जुले रिएक्शन्स आए. बहुत से लोगों ने फिल्म की सराहना की, जबकि कुछ ने मुझे गाली देने के लिए फोन किया और सवाल किया कि मुझे इस बात से परेशान क्यों है कि एक समुदाय कैसे प्रार्थना करता है.’
5

Related Articles

Back to top button