देश दुनिया

Sri Lanka में मंडराया गृह युद्ध का खतरा , 12 से ज्यादा मंत्रियों के घर फूंके, प्रधानमंत्री आवास में गोलीबारी

Sri Lanka : श्रीलंका में आर्थिक संकट से उपजा असंतोष से अब गृह युद्ध की वजह बन सकता है। सोमवार को प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे विपक्ष के दबाव में इस्तीफा दे चुके हैं। उनके इस्तीफे से नाखुश समर्थकों ने राजधानी कोलंबो में हिंसक घटनाओं को अंजाम दिया। जिसके बाद उनके विरोधी भी उग्र हो गए।

जब राजपक्षे के समर्थकों ने कोलंबो छोड़कर जाने की कोशिशें कीं। उनकी गाड़ियों को जगह-जगह निशाना बनाया गया। दूसरी तरफ प्रदर्शनकारियों ने हंबनटोटा में महिंदा राजपक्षे के पुश्तैनी घर को आग के हवाले कर दिया। वहीं, राजधानी कोलंबो में पूर्व मंत्री जॉनसन फर्नांडो को कार सहित झील में फेंक दिया गया।

भारतीयों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी

अब तक 12 से ज्यादा मंत्रियों के घर जलाए जा चुके हैं। श्रीलंका में फंसे भारतीयों के लिए हेल्पलाइन नंबर +94-773727832 और ईमेल ID [email protected] जारी की गई है।

सांसद समेत पांच की मौत, जानें ताजा हालात

आर्थिक मंदी से जूझ रहा श्रीलंका अब गुस्से की आग में जल रहा है. इसमें सत्ताधारी पार्टी के एक सांसद को जान गंवानी पड़ी है, वहीं महिंदा राजपक्षे का घर भी फूंक डाला गया. श्रीलंका में सोमवार को काफी रक्तपात हुआ, जिसमें सांसद समेत कुछ लोगों की जान गई वहीं 150 लोग जख्मी बताये जा रहे हैं. वहीं राजपक्षे ने अब पीएम पद से इस्तीफा दे दिया है. हिंसा को देखते हुए प्रशासन ने देशभर में फिर से कर्फ्यू लगा दिया है वहीं राजधानी कोलंबो में तो सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा सेना को सौंप दिया गया है.

दरअसल, श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के घर के बाहर प्रदर्शनकारी शांतिपूर्वक ढंग से प्रदर्शन कर रहे थे. इस बीच उनके भाई और पीएम राजपक्षे के कट्टर समर्थकों ने उनपर हमला कर दिया. इसके बाद हिंसा भड़क गई. सोमवार को सत्ताधारी पार्टी (Sri Lanka Podujana Peramuna) के सांसद Amarakeerthi Athukorala की मौत हो गई. जानकारी के मुताबिक, उनकी गाड़ी को निट्टंबुवा में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों ने घेर लिया था. लोगों का कहना है कि इस दौरान सांसद की SUV गाड़ी से फायरिंग हुई. इसपर भीड़ भड़क गई.

फिर सांसद वहां से भागे और एक बिल्डिंग में छिप गए, जिसे हजारों लोगों ने घेर लिया था. कहा जा रहा है कि उसके बाद भीड़ से डरकर सांसद ने खुद को अपनी ही रिवॉल्वर से गोली मार ली. बिल्डिंग से उनके निजी सुरक्षाकर्मी की लाश भी मिली. इस पूरे घटनाक्रम में 27 साल के एक और शख्स की मौत हुई है. माना जा रहा है कि सांसद की कार से चली गोली उसको लगी थी. हिंसा की आग जैसे-जैसे भड़की तो प्रदर्शनकारी उग्र हो गए. फिर उन्होंने महिंदा राजपक्षे के पैतृक घर को फूंका डाला. यह हम्बनटोटा (Hambantota) शहर में मौजूद था. इसके साथ-साथ कुछ सांसदों के घरों को भी भीड़ ने राख कर दिया.



Post Views:
6

Related Articles

Back to top button