खास खबर

गुरुवार को लोग केले के पेड़ की पूजा करते हैं।

नई दिल्ली: ज्योतिष में भी केले के पेड़ को पूजनीय माना जाता है. गुरुवार को लोग केले के पेड़ की पूजा करते हैं। मान्यता है कि इस वृक्ष में नारायण का वास होता है। लेकिन फिर भी लोग केले का पेड़ घर में लगाने से मना कर देते हैं। लेकिन सही मायने में केले का पेड़ लगाने में कोई समस्या नहीं है, इसे गलत जगह लगाना अशुभ होता है।

अगर केले का पेड़ घर में गलत जगह पर लगाया जाता है, अगर उसकी ठीक से देखभाल नहीं की जाती है, तो इसके अशुभ परिणाम प्राप्त होते हैं। इसलिए हमारे बड़े-बुजुर्ग इसे घर में लगाने से मना कर देते हैं। लेकिन अगर आप ज्योतिषीय नियमों का पालन करते हुए केले का पेड़ लगाते हैं, तो यह घर में सुख, समृद्धि और खुशियां लाता है। जानिए केले का पेड़ लगाने के वास्तु नियम।

इसे किस दिशा में लगाना चाहिए?
पूजा के लिए सबसे अच्छी दिशा ईशान कोण मानी जाती है। ऐसे में केले का पेड़ लगाने के लिए यह दिशा सबसे उत्तम मानी जाती है। इसके अलावा आप पूर्व और उत्तर दिशा में केले का पेड़ भी लगा सकते हैं। आग्नेय कोण को कभी भी दक्षिण और पश्चिम दिशा में न रखें।

घर के पिछले हिस्से में रखें
केले का पेड़ कभी भी घर के सामने वाले हिस्से में नहीं लगाना चाहिए। इसे पिछले हिस्से में लगाना चाहिए और लगाने के बाद रोजाना पानी देना चाहिए।

केले के पास लगाएं तुलसी का पौधा
केले के पेड़ को भगवान विष्णु का निवास माना जाता है और तुलसी को देवी लक्ष्मी का रूप माना जाता है। इसलिए केले के पेड़ के पास तुलसी का पौधा रखना चाहिए। इससे नारायण और माता लक्ष्मी दोनों की कृपा प्राप्त होती है। साथ ही हर गुरुवार को केले के पेड़ की हल्दी से पूजा करें और दीपक जलाएं.

हमेशा साफ पानी डालें
केले के पेड़ में हमेशा साफ पानी डालें। इस पेड़ में कपड़े, बर्तन आदि के बाद बचा हुआ पानी डालने की गलती न करें। न ही इस वृक्ष में भगवान को स्नान कराकर बचा हुआ जल डालें। पेड़ के आसपास हमेशा साफ-सफाई रखें। इसके अलावा अगर इस पेड़ का कोई पत्ता सूख जाए तो उसे तुरंत हटाकर फेंक दें।

Sach News Desk

देश में तेजी से बढ़ती हुई हिंदी समाचार वेबसाइट है। जो हिंदी न्यूज साइटों में सबसे अधिक विश्वसनीय, प्रमाणिक और निष्पक्ष समाचार अपने पाठक वर्ग तक पहुंचाती है। इसकी प्रतिबद्ध ऑनलाइन संपादकीय टीम हर रोज विशेष और विस्तृत कंटेंट देती है। हमारी यह साइट 24 घंटे अपडेट होती है, जिससे हर बड़ी घटना तत्काल पाठकों तक पहुंच सके। पाठक भी अपनी रचनाये या आस-पास घटित घटनाये अथवा अन्य प्रकाशन योग्य सामग्री ईमेल पर भेज सकते है, जिन्हें तत्काल प्रकाशित किया जायेगा !

Related Articles