टॉप न्यूज़

Nautapa 2022 : कल से खूब तपेगी धरती, कई जगहों पर आज बारिश की संभावना



0



0


Read Time:3 Minute, 38 Second

इस साल नौतपा 25 मई से शुरु हो रहा है, जो 02 जून तक रहेगा. गर्मी के मौसम में हर साल नौतपा आता है.

रायपुर : कल (25 मई) से नौतपा शुरू हो जाएगा। नौतपा से पहले मौसम विभाग ने आज बारिश होने की संभावना जताई है। प्रदेश के कई हिस्सों में शाम तक बारिश के आसार दिख रहे हैं। मौसम विभाग के अनुसार, प्रदेश में आज एक-दो स्थानों पर हल्की वर्षा हो सकती है।

प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ आंधी भी चल सकती है। वहीं प्रदेश में अधिकतम तापमान में गिरावट होने की संभावना है। प्रदेश में अधिकतम तापमान 44 डिग्री से घटकर 37 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच चुका है।

इधर, मध्यप्रदेश में भी बारिश की संभावना जताई जा रही है कि प्री मानसून एक्टिविटी की दस्तक हो गई है। जबलपुर, रीवा, उमरिया, मलाजखंड, ग्वालियर और सतना में कल हल्की बूंदाबांदी हुई। वहीं अगले 4 से 5 दिन में एक्टिविटी बढ़ने के आसार है। राजधानी भोपाल में आज भी बादल छाए रहेंगे।

रोहिणी का निवास समुद्र में

इस बार रोहिणी का निवास समुद्र में है, अतिवृष्टि, समुद्रे स्यात, श्रेष्ठ वृष्टि होने पर धान्य वर्धन होता है, इस बार समय का निवास मालाकार अर्थात माली के घर रहेगा। ऐसी मान्यता है कि माली के घर रहने से वर्षा अच्छी होती है और समय का वाहन भैंसा है, जो कहीं-कहीं कुछ स्थानों पर अतिवृष्टि करवाएगा।

भारतीय ज्योतिष शास्त्र में दो प्रकार के विभाग में पहला विभाग भारतीय ज्योतिष शास्त्र का गणितीय पद्धति का इसी में फलित भी होता है। दूसरा प्रभाग जलवायु को समझने के लिए मेदिनी ज्योतिष शास्त्र का नियम सामने प्रस्तुत होता है। ज्योतिष शास्त्र में सूर्य तथा चंद्र के परिभ्रमण से संबंधित नक्षत्रों की गणना और नक्षत्रों का प्रवेश आदि से जुड़े सिद्धांत, प्रश्नों का उत्तर, प्राचीन धर्म ग्रंथ में प्राप्त होता है। सूर्य का किस नक्षत्र में प्रवेश का क्या नियम है, वह कितने समय तक उस नक्षत्र में विद्यमान रहता है, या परिभ्रमण करता है, इन सभी विषयों को लेकर अलग-अलग रूपरेखा, राशि, वार, सिद्धांत, सूत्र दिया हुआ है। इसी आधार पर वर्षा चक्र का निर्माण होता है। सूर्य का रोहिणी नक्षत्र प्रवेश क्रम तकरीबन 13 से 15 दिन का माना गया है जो कि 13 से 15 दिन के पहले 9 दिन जो होते हैं, वही नौतपा कहलाते हैं, इसलिए यह 9 दिन वर्षा के आगमन की स्थिति को तय करते हैं। इन्हीं 9 दिनों में वर्षा ऋतु का चक्र भी तैयार होता है।


Happy


Happy




0 %


Sad


Sad



0 %


Excited


Excited



0 %


Sleepy


Sleepy




0 %


Angry

Angry



0 %


Surprise

Surprise



0 %



Post Views:
4

Sach News Desk

देश में तेजी से बढ़ती हुई हिंदी समाचार वेबसाइट है। जो हिंदी न्यूज साइटों में सबसे अधिक विश्वसनीय, प्रमाणिक और निष्पक्ष समाचार अपने पाठक वर्ग तक पहुंचाती है। इसकी प्रतिबद्ध ऑनलाइन संपादकीय टीम हर रोज विशेष और विस्तृत कंटेंट देती है। हमारी यह साइट 24 घंटे अपडेट होती है, जिससे हर बड़ी घटना तत्काल पाठकों तक पहुंच सके। पाठक भी अपनी रचनाये या आस-पास घटित घटनाये अथवा अन्य प्रकाशन योग्य सामग्री ईमेल पर भेज सकते है, जिन्हें तत्काल प्रकाशित किया जायेगा !

Related Articles

Back to top button