इन्वर्टर की बैटरी कब पूरी तरह डिस्चार्ज होती है? जानिए हजारों का नुकसान होने से बच जाएगा

Prakash Gupta
3 Min Read

इन्वर्टर बैटरी: सर्दी हो या गर्मी, लाइटें हमेशा जलती रहती हैं। ऐसे में हमें बस एक ही चीज़ याद आती है और वो है इन्वर्टर. गर्मियों में पसीना सुखाने के लिए पंखा या कूलर चलाने के लिए बिजली की जरूरत होती है, जबकि सर्दियों में घर में हर समय लाइट या हीटर चलाने के लिए रोशनी की जरूरत होती है। इसलिए बिजली कटौती के दौरान इन्वर्टर की बहुत कमी महसूस होती है।

इन्वर्टर घर में इस्तेमाल करने के लिए बेहद उपयोगी चीज है, लेकिन लोग इसकी देखभाल ठीक से नहीं कर पाते हैं। उचित देखभाल के अभाव में इन्वर्टर की बैटरी जल्दी खराब हो जाती है। इसके अलावा कई बार देखा गया है कि बैटरी डीप डिस्चार्ज हो जाती है और उसे सही कराने के लिए हमें इलेक्ट्रीशियन को बुलाना पड़ता है। लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि इन्वर्टर की बैटरी डीप डिस्चार्ज क्यों होती है और इससे बचने के क्या उपाय हैं।

क्या होता है जब बैटरी डिस्चार्ज हो जाती है?

जब इन्वर्टर की बैटरी लंबे समय तक चार्ज नहीं होती है और धीरे-धीरे इसकी बैटरी खत्म हो जाती है तो इन्वर्टर आपको बिजली देना बंद कर देता है। बैटरी की इस स्थिति को डिस्चार्ज कहा जाता है। बैटरी तब तक डिस्चार्ज रहती है जब तक उसे दोबारा चार्ज करने के लिए बिजली उपलब्ध नहीं हो जाती।

डीप डिस्चार्ज क्या है?

बैटरी डिस्चार्ज होने के बाद भी जब हम घर की विंग लाइट और अन्य चीजों को बंद नहीं करते हैं तो बैटरी ऐसी स्थिति में आ जाती है कि बैटरी बैकअप बिल्कुल खत्म हो जाता है। अगर बैटरी बैकअप पूरी तरह खत्म हो जाए तो वह डीप डिस्चार्ज की स्थिति में चली जाती है।

इसके बाद लाइट आने के बाद भी बैटरी चार्ज नहीं होती और हमें इलेक्ट्रीशियन को बुलाना पड़ता है। इलेक्ट्रीशियन इसे ठीक करता है, और यह फिर से काम करना शुरू कर देता है। लेकिन इसके लिए आपको पैसे खर्च करने होंगे. इसलिए एक बात का ध्यान रखें कि जब बैटरी डिस्चार्ज हो जाए तो सभी बिजली के उपकरणों को बंद कर देना चाहिए।

Share This Article