[prisna-google-website-translator]
Hamar Chhattisgarhindia

फिर नजर आया जीपीएम पुलिस का मानवीय चेहरा

नाबालिग बच्चे को पहुंचाया चाइल्ड लाइन

70-80 के दशक की कई बॉलीवुड फिल्मों में आपने देखा होगा कि पिता किसी मुकदमे में जेल चला जाता है,या पागल हो जाता है तो पुलिस वाले बच्चे की परवरिश करते या उसका लालन पालन सही तरीके से हो वैसा करते हैं, जीपीएम जिले में भी ऐसी ही सच्ची घटना सामने आई है. यहां जीपीएम पुलिस ने इंसानियत की मिसाल पेश की है. हमेशा कानून के दायरे में रहने वाले वर्दीवालों का मानवीय चेहरा देखने को मिल रहा है।

दरअसल ग्राम परासी के ज्ञान सिंह केवट पिता हीरा लाल केवर्त उम्र 65 साल का पुत्र राजेश केवर्त जो कि मंद बुद्धि और नशेड़ी भी है, जिसकी पत्नी उसे छोड़ कर 05 साल से अपने मायके चली गयी है। राजेश का 07 वर्षीय नाबालिग पुत्र है जिसे राजेश मारपीट करता है। ज्ञान सिंह केवर्त के द्वारा मरवाही थाना प्रभारी को आकर अपनी व्यथा सुनाई।
थाना प्रभारी ने मानवीय दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए मौके पर जाकर तस्दीक किया। जहां पर पाया कि ज्ञान सिंह ही अपने नाबालिग नाती का देखरेख कर रहा है। माली हालत भी ठीक नही और घर मे औऱ कोई नही है जो बच्चे का देखरेख कर सके।

थाना प्रभारी ने पुलिस अधीक्षक श्री सूरज सिंह परिहार को इस संबंध में जानकारी दी, पुलिस अधीक्षक महोदय ने बच्चे के उचित देखभाल हेतु थाना प्रभारी को विधि अनुरूप चाइल्ड लाइन भिजवाने की बात कही।

थाना प्रभारी मरवाही के द्वारा ज्ञान सिंह केवर्त को उसके नाती की देख रेख हेतु बिलासपुर भिजवाने की बात कही गई। जो ज्ञान सिंह केवर्त के द्वारा अपने नाती की सही देख रेख हेतु बिलासपुर चाइल्ड लाइन भेजने हेतु सहर्ष तैयार हो गया। जहां पर नियमानुसार नाबालिग बच्चे को चाइल्ड लाइन बिलासपुर भेजा गया है।

Live Share Market

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker