मेडिकल स्टोर पर बिक रही नकली दवाइयां, कैसे करें असली-नकली की पहचान

Prakash Gupta
3 Min Read

नकली दवा: देश चिकित्सा क्षेत्र में काफी प्रगति कर रहा है और ऐसे में सरकार की ओर से कई मुफ्त चिकित्सा सेवा योजनाएं भी चलाई जा रही हैं। किसी भी बीमारी को दवाइयों की मदद से ठीक किया जा सकता है।

दवाएँ विभिन्न रोगों के लक्षणों को कम करके व्यक्ति को ठीक करने का काम करती हैं। इसके अलावा शरीर के कार्यों को नियंत्रित करने के लिए भी दवाओं का उपयोग किया जाता है। इसलिए यह कहना गलत नहीं होगा कि दवाएँ हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण स्थान रखती हैं।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि आज के समय में मेडिकल स्टोर्स पर नकली दवाएं बेची जा रही हैं? नकली दवाइयां खाने से आपकी बीमारी ठीक नहीं होती और शरीर खराब होने लगता है। इसलिए आपको नकली दवाओं से सावधान रहने की जरूरत है। आज इस आर्टिकल के जरिए हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताने जा रहे हैं जिससे आप नकली और असली दवा में अंतर कर पाएंगे। आइए और जानें…

अगर आप कोई दवा खरीदने जा रहे हैं तो उसकी पैकेजिंग से भी पता लगा सकते हैं कि वह असली है या नकली। अगर दवा नकली है तो उसकी पैकेजिंग भी घटिया क्वालिटी की होगी. खराब पैकेजिंग पर दवा के बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं होगी।

लेकिन अगर दवा असली है तो उसकी पैकेजिंग अच्छी क्वालिटी की होगी और उस पर दवा के बारे में स्पष्ट जानकारी भी लिखी होगी. इसके अलावा सही दवा की पैकेजिंग पर एक क्यूआर कोड भी होता है. इस QR कोड को स्कैन करके आप उस दवा के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

असली और नकली का पता लगाने के लिए आप मेडिकल स्टोर से खरीदी गई दवा को अपने डॉक्टर को भी दिखा सकते हैं। दवा देखने के बाद डॉक्टर बता सकता है कि यह असली है या नकली।

जब भी आप कोई दवा खरीदने जाएं तो उसे किसी पहचाने हुए या भरोसेमंद मेडिकल स्टोर से ही खरीदें। अक्सर देखा जाता है कि अवैध और असुरक्षित स्रोतों से नकली दवाएं बेची जाती हैं। आपको इन जगहों से दवाइयां खरीदना नहीं भूलना चाहिए।

Share This Article