व्यवसाय / काम की खबर

DURG : बैंक मैनेजर से लाखों रुपए की ठगी कर विदेश भागने के फिराक में था आरोपी, एयरपोर्ट से हुआ गिरफ्तार

लाखों रुपए की ठगी

दुर्ग। SBI मैनेजर से 18 लाख रूपए से अधिक की ठगी करने वाले आरोपी को पुलिस ने दिल्ली के इंटरनेशनल एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया है। जिसके बाद पुलिस उसे दुर्ग लेकर आई औऱ न्यायिक हिरासत में भेज दिया। इससे पहले दुर्ग पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए LOC (लुक आउट सर्कुलर) नोटिस जारी किया था।

25 जनवरी 2022 को एसबीआई दुर्ग के ब्रांच मैनेजर अनुरंजन कुमार प्रियदर्शी ने ठगी की शिकायत दर्ज कराई थी। उसने बताया था कि ठग ने फोन पर खुद को कैलाश मध्यानी का पार्टनर वेंकटेश मोटर्स रायपुर से बताया था। कहा कि वह बैंक में एफडी करने आ रहा है, लेकिन अचानक उसे किसी को रुपए ट्रांसफर करने हैं। उसने चेक नंबर बताते हुए दो अलग-अलग खातों में 18 लाख 24 हजार 780 रुपए RTGS करने को कहा।

बैंक मैनेजर विश्वास में आ गया और उसने कैलाश मध्यानी के अकाउंट से रुपए दो अलग-अलग खातों में ट्रांसफर कर दिए। थोड़ी देर बाद फिर से ठगों ने रुपए ट्रांसफर करने को कहा तो बैंक मैनेजर को ठगी का शक हुआ। इसके बाद उसने कैलाश मध्यानी को फोन लगाया। मध्यानी ने बताया कि उसने किसी को रुपए ट्रांसफर करने नहीं कहा तब मैनेजर को पता चला कि वह ठगी का शिकार हो गया है। मैनेजर की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू की थी।

मामले की जांच के दौरान पुलिस ने कॉल डिटेल्स और बैंक खाते की जांच की तो पता चला की आरोपी दिल्ली व हरियाणा राज्य के हैं। एसपी के निर्देश पर तुरंत एक टीम गठित कर दिल्ली और हरियाणा भेजा गया। पुलिस ने यहां से विकास ढींगरा, मुन्ना साव, पवन मांझी और पुनीत गौतम उर्फ डम्पी को गिरफ्तार किया। इन लोगों ने दूसरे व्यक्तियों के नाम पर बैंक खातों और सिम का उपयोग कर अपने साथी करण कपूर, राजन कपूर और विनय यादव उर्फ बबलू के साथ मिलकर जुर्म को करना स्वीकार किया। पुलिस ने 10 फरवरी को आरोपी करण और विनय को फरीदाबाद से गिरफ्तार किया था, लेकिन मुख्य आरोपी राजन कपूर भागने में कामयाब हो गया था।

जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि आरोपी राजन कपूर विदेश भागने की फिराक में है। इसके बाद पुलिस ने तुरंत उसके नाम से लुक आउट सर्कुलर नोटिस जारी कराया। जैसे ही आरोपी 4 मई बुधवार की शाम रात्रि इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट नई दिल्ली पहुंचा उसे गिरफ्तार कर लिया गया। एयरपोर्ट से सूचना मिलने के बाद यहां से उप निरीक्षक राजीव तिवारी और आरक्षक जुगनू सिंह की दिल्ली भेजा गया। वह लोग आरोपी को गिरफ्तार कर ट्रांजिस्ट रिमांड पर लाए।



Post Views:
8

Related Articles

Back to top button