automobile

चीन को जल्द लगेगा एक और बड़ा झटका, आईफोन बनाने वाली कंपनी आएगी भारत

नई दिल्ली। गलवान घाटी में झड़प के बाद भारत चीन को एक और बड़ा झटका देने जा रहा है। ऐपल असेंबली पार्टनर पेगाट्रॉन भारत में अपना पहला प्लांट लगाएगी। पेगाट्रॉन दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल कॉन्ट्रेक्ट मैन्युफैक्चरिंग कंपनी है। जून में, सरकार ने दुनिया के शीर्ष स्मार्टफोन निर्माताओं को लुभाने के लिए 6.6 अरब डॉलर की योजना बनाई, जिसमें वित्तीय प्रोत्साहन और उपयोग में आने वाले विनिर्माण क्लस्टर की पेशकश की गई।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, पेगाट्रॉन अब भारत में कंपनी की स्थापना कर रहा है और ताइवान के इलेक्ट्रॉनिक्स असेंबलरों फॉक्सकॉन टेक्नोलॉजी ग्रुप और विस्ट्रॉन में शामिल हो रहा है, जो पहले से ही दक्षिण भारत में कुछ आईफोन हैंडसेट बना रहे हैं। चीन में कई कारखानों के साथ, पेगाट्रॉन दूसरा सबसे बड़ा आईफोन असेंबलर है और अपने आधे से अधिक व्यवसाय के लिए पर निर्भर करता है। अन्य कंपनियों की तरह यह दक्षिण भारत में प्लांट स्थापित करेगी।

ब्लूमबर्ग इंटेलिजेंस के मैथ्यू कैंटरमैन के मुताबिक, फॉक्सकॉन जिसे Hon Hai के नाम से भी जाना जाता है। विस्ट्रॉन देश में अपने परिचालन का विस्तार करना चाहते हैं। पेगाट्रॉन की एंट्री को बजट आईफोन निर्माण के अपने हिस्से की रक्षा के लिए एक रक्षात्मक कदम के रूप में देखा जा सकता है। ऐपल अपना प्रोडक्शन चीन से शिफ्ट करने की सोच रहा है, क्योंकि कोरोना वायरस की वजह से पहले ही बीजिंग और वॉशिंगटन के बीच ट्रेड वॉर छिड़ा हुआ है।

बता दें कि कुशल श्रम के साथ-साथ भारत एक अरब मोबाइल कनेक्शन का एक बड़ा बाजार प्रदान करता है। हालांकि, उनमें से लगभग आधे स्मार्टफोन ही हैं लेकिन अनकैप्ड क्षमता को छोड़ दें जो कि ऐप्पल, सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स, शाओमी और ओप्पो ग्रोथ हंगरी वैश्विक ब्रांडों के लिए आकर्षक है। वॉशिंगटन और बीजिंग के बीच बिगड़ते व्यापारिक संबंधों के बीच पेगाट्रॉन जैसे असेंबलरों के लिए एक्सपोर्ट भी एक आकर्षक अवसर होगा।

Live Share Market

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker