in

इटली: घट रही मौतें, दिखी उम्मीद की किरण

2 Views
रोम
इटली में कोरोना वायरस से हुई मौत का आंकड़ा बेहद डरा देने वाला है लेकिन नई मौत के आंकड़े में गिरावट से थोड़ी राहत मिलती दिख रही है। बुधवार को मरने वालों की संख्या 7,503 हो गई और यह चीन को कहीं पीछे छोड़ चुका है। बुधवार को 683 लोगों की घातक वायरस से मौत हुई जबकि मंगलवार को 743 लोगों की जानें गई थीं। सुधार के संकेत रविवार से दिखने शुरू हुए हैं। शनिवार को जहां एक दिन में हुई मौत का रेकॉर्ड बन गया था वहीं रविवार को इसमें गिरावट आई और मृतकों की संख्या 650 और फिर सोमवार को 602 दर्ज की गई।

इटली में कन्फर्म केस धीरे-धीरे चीन के करीब पहुंच गए हैं जहां के वुहान से यह पुरी दुनिया में फैल रहा है। कुल कन्फर्म केस की संख्या 74,386 हो गई है जो कि पहले 69,176, थी। दैनिक नए केस में भी कमी का ट्रेंड देखने को मिला है। इटउधर, कोरोना का केंद्र रहे चीन में तो स्थिति सुधर गई है और इसने तीन महीने बाद वुहान में बस सेवा भी शुरू कर दी, लेकिन इसके यहां से फैले वायरस ने दुनियाभर में तबाही मचा रखी है।

पिछले दिनों जब लगातार दो दिन डेटा में गिरावट आई थी तो टीवी पर नजर आए हेल्थ अधिकारी के चेहरे पर खुशी थी। उधर, बुधवार को कॉन्फ्रेंस में सिविल प्रोटेक्शन एजेंसी के हेड एंगेलो बोरेली नजर नहीं आए क्योंकि उन्हें बुखार था।

वहीं, कोरोना से जुड़े अन्य तथ्यों की तरफ गौर करें तो देश में 9,362 मरीज पूरी तरह ठीक हो गए हैं, बल्कि मंगलवार को यह आंकड़ा 8,326 था। आईसीयू में 3,489 लोगों को रखा गया है जबकि मंगलवार तक 3,396 मरीज आईसीयू में भर्ती थे। देश का सबसे अधिक प्रभावित लॉम्बार्डी रिजन में भी अब नए केस और मौत की संख्या में गिरावट देखी गई है। फिलहाल 4,474 मौतों और 32,346 कन्फर्म केस के साथ यह सबसे ऊपर है। लॉम्बार्डी के बाहर तुरिन और वेनिस में केस बढ़ रहे हैं।

इटली में सकारात्मक ट्रेंड तब देखने को मिल रहे हैं जब कुछ दिन पहले ही कोरोना संक्रमित एक नर्स ने खुदकुशी कर ली थी। दरअसल, वह लॉम्बार्डी के एक अस्पताल में काम कर रही थी और उसे डर था कि उसने दूसरे लोगों को संक्रमित कर दिया है, ऐसे समय में जब देश आपदा से गुजर रहा है। इसी चिंता में आकर डेनिएला ट्रेजी ने जान दे दी। संक्रमण की पुष्टि के बाद ही उसे क्वारनटाइन में रखा गया था और उसने वहीं खुदकुशी कर ली। नर्सिंग ग्रुप का कहना है कि इस तरह का मामला एक सप्ताह पहले भी आया था जब एक नर्स ने खुदकुशी कर ली थी।

admin

Written by admin

‘होम आइसोलेशन’ की नसीहत, पीटकर मार डाला

गुरुद्वारा अटैक का असल गुनहगार IS नहीं लश्कर