टॉप न्यूज़

तुलसी के आलावा इन पौधों का मुरझाना बनता है दरिद्रता का कारण, इन बात का अवश्य ध्यान

हिंदू धर्म में एक नहीं बल्कि कई पौधों को पूजनीय माना जाता है। कई बार ऐसा भी होता है जब इन पौधों का ध्यान नहीं रखा जाये या उनमें पानी नहीं दिया जाये तो ये सुख जाते हैं। ऐसे में इन पौधों का सूखना कुछ अशुभ संकेत देता है। यही नहीं ये भविष्य में आने वाली घटनाओं को लेकर संकेत देता है। तो आइए विस्तार से जान लें इन संकेतों के बारे में।

तुलसी का सूखना

कई बार घर में थोड़ी सी लापरवाही से घर में लगे पौधे सूख जाते हैं। लेकिन कई बार पौधों का पूरा ध्यान रखने के बाद भी वे सूख जाते हैं। अगर ऐसा तुलसी के पौधे के साथ होता है, तो मां लक्ष्मी आप से नाराज हो सकती है। ये धन हानि होने का संकेत होता है। तुलसी के पौधे को मां लक्ष्मी का रूप माना जाता है और ये भगवान श्री विष्णु को बेहद प्रिय है, इसलिए तुलसी के पौधे का खास ख्याल रखें।

मनी प्लांट का सूखना

मनी प्लांट का पौधा वास्तु के अनुसार बेहद शुभ माना जाता है। वास्तु जानकारों के अनुसार मनी प्लांट को दक्षिण-पूर्व दिशा में लगाना शुभ होता है। माना जाता है कि इस दिशा में गणेश जी का वास होता है और धन की कमी नहीं होती। लेकिन अगर लगा हुआ मनी प्लांट सूख जाता है, तो ये धन के लिहाज से शुभ नहीं माना जाता। ये पैसों की तंगी के संकेत देता है।

शमी के पौधे का सूखना

शमी का पेड़ बहुत शुभ होता है। शनि ग्रह से जुड़ी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए शमी के पेड़ की पूजा कीजाती है। लेकिन आपका हरा-भरा शमी का पेड़ अगर अचानक से सूख जाता है, तो ये शनि की खराब स्थिति और शिव जी के नाराज होने का संकेत होता है। ऐसा होने पर कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में कार्यों में बाधा उत्पन्न होती है।

अशोक का पेड़ सूखना

घर के आंगन में अशोक का पेड़ सकारात्मकता के लिए लगाया जाता है। अगर ये पेड़ सूख जाता है तो ये घर की शांति भंग होने का संकेत होता है। ऐसे में अशोक के पेड़ की खूब केयर करें। अगर किसी वजह से सूख भी जाता है, तो इसे तुरंत बदल दें।

Sach News Desk

देश में तेजी से बढ़ती हुई हिंदी समाचार वेबसाइट है। जो हिंदी न्यूज साइटों में सबसे अधिक विश्वसनीय, प्रमाणिक और निष्पक्ष समाचार अपने पाठक वर्ग तक पहुंचाती है। इसकी प्रतिबद्ध ऑनलाइन संपादकीय टीम हर रोज विशेष और विस्तृत कंटेंट देती है। हमारी यह साइट 24 घंटे अपडेट होती है, जिससे हर बड़ी घटना तत्काल पाठकों तक पहुंच सके। पाठक भी अपनी रचनाये या आस-पास घटित घटनाये अथवा अन्य प्रकाशन योग्य सामग्री ईमेल पर भेज सकते है, जिन्हें तत्काल प्रकाशित किया जायेगा !

Related Articles

Back to top button