देश दुनिया

चुनावों के बाद देश में 50 राज्य बनाने का फैसला किया है।

बेलगावी (कर्नाटक)। कर्नाटक के एक मंत्री ने कहा है कि 2024 के लोकसभा चुनाव के बाद देश में राज्यों की संख्या बढ़कर 50 हो जाएगी और उत्तरी कर्नाटक नए राज्यों में शुमार होगा। खाद्य, सिविल आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री उमेश कट्टी ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2024 के चुनावों के बाद देश में 50 राज्य बनाने का फैसला किया है। मुझे पता चला है कि वह इस पर विचार कर रहे हैं।’’

उन्होंने कहा कि राज्य को विभाजित करने का विचार अच्छा है क्योंकि पिछले कुछ वर्षों में जनसंख्या का बोझ बढ़ा है। जनसंख्या में वृद्धि के मद्देनजर 50 राज्यों के गठन के विचार का समर्थन करते हुए कट्टी ने कहा, ‘‘कर्नाटक से दो राज्य, उत्तर प्रदेश से चार, महाराष्ट्र से तीन और इसी तरह के अन्य राज्य बनने चाहिए।’’ कट्टी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा कि उत्तरी कर्नाटक को अलग राज्य का दर्जा देने के लिए सरकार के स्तर पर कोई प्रस्ताव नहीं है।

यूपी में 4, कर्नाटक में बनेंगे 2 राज्य

मंत्री ने कहा कि 50 राज्यों के गठन के कथित विचार का समर्थन करते हुए कहा कि कर्नाटक से 2 राज्य, उत्तर प्रदेश से 4, महाराष्ट्र से 3 और इसी तरह के अन्य राज्य बनने चाहिए. कट्टी (Umesh Katti) ने कहा कि छोटे राज्यों की संख्या बढ़ने से देश में रोजगार और विकास के नए रास्ते खुलेंगे और इससे देश भी खुशहाली की ओर आगे बढ़ेगा.

सीएम बोम्मई ने खारिज किया बयान

वहीं मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई (Basavaraj Bommai) ने खाद्य मंत्री उमेश कट्टी के बयान को खारिज कर दिया है. बोम्मई ने कहा कि उत्तरी कर्नाटक को अलग राज्य का दर्जा देने के लिए सरकार के स्तर पर कोई प्रस्ताव नहीं है. मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में राज्यों की संख्या बढ़ाकर 50 करने के किसी प्रपोजल के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है और न ही केंद्र सरकार ने इस बारे में किसी से डिस्कस किया है.

Sach News Desk

देश में तेजी से बढ़ती हुई हिंदी समाचार वेबसाइट है। जो हिंदी न्यूज साइटों में सबसे अधिक विश्वसनीय, प्रमाणिक और निष्पक्ष समाचार अपने पाठक वर्ग तक पहुंचाती है। इसकी प्रतिबद्ध ऑनलाइन संपादकीय टीम हर रोज विशेष और विस्तृत कंटेंट देती है। हमारी यह साइट 24 घंटे अपडेट होती है, जिससे हर बड़ी घटना तत्काल पाठकों तक पहुंच सके। पाठक भी अपनी रचनाये या आस-पास घटित घटनाये अथवा अन्य प्रकाशन योग्य सामग्री ईमेल पर भेज सकते है, जिन्हें तत्काल प्रकाशित किया जायेगा !

Related Articles

Back to top button