देश दुनिया

आंशिक सूर्य ग्रहण को ‘ब्लैक मून’ कहा जा रहा है. A partial solar eclipse is being called a ‘Black Moon’.

इस साल होने वाले दो सूर्य ग्रहण में से पहला 30 अप्रैल को होगा. इस आंशिक सूर्य ग्रहण को ‘ब्लैक मून’ कहा जा रहा है.

Surya Grahan 2022: साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) 30 अप्रैल को होगा. यह आंशिक सूर्य ग्रहण और और दुनियाभर के कई हिस्सों में यह दिखेगा. इस साल दो सूर्य ग्रहण होने हैं. दूसरा सूर्य ग्रहण 25 अक्टूबर को होगा. 30 अप्रैल को होने वाला सूर्य ग्रहण भारत में नहीं दिखेगा. खगोल वैज्ञानिकों ने इस सूर्य ग्रहण को ‘ब्लैक मून’ (Black Moon) कहा है.

वैसे तो सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) एक खगोलीय घटना है, लेकिन हिंदू धर्म और वैदिक ज्योतिष शास्त्र में इसका खास महत्व होता है. ऐसा इसलिए है, क्योंकि वेदों में सूर्य को दुनिया की आत्मा माना जाता है और धरती पर सूरज की रोशनी के बिना जीवन संभव नहीं है. 30 अप्रैल को होने वाला सूर्य ग्रहण भारत में नहीं दिखेगा, इसलिए इसके धार्मिक महत्वों को यहां नहीं माना जाएगा.

दुनिया को दिखेगा ‘ब्लैक मून’

इस बार के आंशिक सूर्य ग्रहण को खगोल शास्त्रियों ने ‘ब्लैक मून’ कहा है, अमेरिका की स्पेस एजेंसी नासा (NASA)के मुताबिक, सूर्यास्त से ठीक पहले और बाद में चंद्रमा, सूर्य के कुछ हिस्सों को ब्लॉक कर देगा और इसी से आंशिक सूर्य ग्रहण दिखेगा.

आपको बता दें कि स्पेस साइंस में ‘ब्लैक मून’ के दुर्लभ घटना है. पिछले साल के सूर्य ग्रहण में ‘ब्लैक मून’ का एक भी उदाहरण देखने को नहीं मिला था. ‘ब्लैक मून’ कोई आधिकारिक शब्द नहीं है, लेकिन आम बोलचाल की भाषा में इस तरह की घटनाओं को ‘ब्लैक मून’ कहा जाता है, क्योंकि इस समय चंद्रमा पूरी तरह से काला नजर आता है.

भारत में नहीं दिखेगा सूर्य ग्रहण

रिपोर्ट के मुताबिक, 30 अप्रैल को होने वाला सूर्य ग्रहण भारतीय समय के अनुसार रात 12:15 बजे शुरू होगा और सुबह 4:07 बजे तक चलेगा. यह आंशिक सूर्यग्रहण होगा और चंद्रमा, सूर्य की रोशनी के कुछ हिस्से को ढक लेगा. नासा के मुताबिक, चंद्रमा, सूर्य के बाहरी हिस्से को अपनी छाया से ढक लेगा. इसे अंटार्कटिका, अटलांटिक क्षेत्र, प्रशांत महासागर, दक्षिणी अमेरिका समेत कई अन्य हिस्सों में देखा जा सकेगा. हालांकि, भारत में इसे नहीं देखा जा सकेगा.

Related Articles

Back to top button