खेल

jyoti Kumari cycle: साइकिल चलाकर सुर्खियों में आईं ज्योति की प्रतिभा को निखारा जाएगा, खेल मंत्री ने दिया रविशंकर प्रसाद को आश्वासन – sports minister kiren rijiju assured ravishankar prasad to help train jyoti who cycled 1200 km

लॉकडाउन के बीच अपने बीमार पिता को बैठाकर गुरुग्राम से दरभंगा के अपने सिरहुल्ली गांव तक साइकिल चलाकर करीब 1200 किमी का सफर तय करने वाली ज्योति कुमारी के साहस को दुनियाभर में सराहा गया है।

Edited By Tarun Vats | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

अपने पिता के साथ ज्योतिअपने पिता के साथ ज्योति
हाइलाइट्स

  • ज्योति की प्रतिभा को निखारने के लिए केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने खेल मंत्री से बातचीत की
  • रविशंकर प्रसाद ने लिखा, बिहार की एक लड़की के साहस के बारे में जाना जिसने 1000 से ज्यादा किमी तक साइकिल चलाई
  • प्रसाद ने खेल मंत्री से ज्योति को प्रशिक्षण दिलाने में मदद करने का अनुरोध भी किया
  • ज्योति की कहानी को अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ने भी ट्विटर पर शेयर किया

नई दिल्ली

अपने पिता को साइकिल पर बैठाकर 1200 किलोमीटर का सफर तय करने वाली 15 साल की ज्योति की प्रतिभा को निखारने के लिए केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने खेल मंत्री से बातचीत की। रविशंकर प्रसाद ने सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी भी दी।

कानून मंत्री ने ट्विटर पर लिखा, ‘बिहार की एक लड़की के साहस के बारे में जाना, जिसने गुरुग्राम से दरभंगा तक अपने पिता के साथ 1000 से ज्यादा किलोमीटर तक साइकिल चलाई। उनकी प्रतिभा निखारने के लिए खेल मंत्री किरण रिजिजू से बात की।’

पढ़ें,

प्रसाद ने खेल मंत्री से ज्योति को प्रशिक्षण दिलाने में मदद करने का अनुरोध भी किया।

उन्होंने यह भी कहा कि खेल मंत्री ने बिहार की इस साहसी लड़की को प्रशिक्षण और छात्रवृत्ति के माध्यम से पूर्ण समर्थन देने का अनुरोध किया है। यदि वह इच्छुक हैं, तो उन्हें एक साइक्लिस्ट के रूप में विकसित किया जा सकता है।

इस पर केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू ने भी रिप्लाई दिया। उन्होंने लिखा, ‘मैं आपको आश्वस्त करता हूं। ज्योति कुमारी के ट्रायल के बाद SAI अधिकारियों और साइक्लिंग फेडरेशन को मुझे रिपोर्ट करने के लिए कहा गया है। यदि संभव हुआ, तो उन्हें दिल्ली में IGI स्टेडियम परिसर में राष्ट्रीय साइक्लिंग अकैडमी में प्रशिक्षु के रूप में चुना जाएगा।’

लॉकडाउन के बीच अपने बीमार पिता को बैठाकर गुरुग्राम से दरभंगा के अपने सिरहुल्ली गांव तक साइकिल चलाकर करीब 1200 किमी का सफर तय करने वाली ज्योति कुमारी के साहस को दुनियाभर में सराहा गया है। ज्योति की कहानी को शुक्रवार को अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ने भी ट्विटर पर शेयर किया।

बिहार की साइकिल वाली ज्योति का सपना- 'मुझे अब मिलना है डोनाल्ड ट्रंप की बिटिया से'बिहार की साइकिल वाली ज्योति का सपना- ‘मुझे अब मिलना है डोनाल्ड ट्रंप की बिटिया से’दरभंगा।अपने पिता को साइकिल से गुरुग्राम से दरभंगा लाने वाली 15 साल की ज्योति ने जब सुना कि उसकी तारीफ अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने की है तो ये जानकर वो बहुत खुश हो गई। ज्योति का सपना है कि वह किसी दिन अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप से मिले। ज्योति ने कहा कि पहले वह एक साइकिल रेस में हिस्सा लेकर जीतना चाहती है। इसके बाद वह इवांका ट्रंप से मिलना चाहती हैं। ज्योति का कहना है कि वह इवांका से कुछ बड़ा करने के लिए आशीर्वाद मांगेगी। ज्योति के मुताबिक, इवांका ने उसकी तारीफ की, इस वजह से उसे बेहद ज्यादा खुशी है। बता दें, लॉकडाउन में पिता के फंसे होने से बेटी ज्योति परेशान हो गई और एक दिन साइकिल उठाकर पिता के साथ चल पड़ी। ज्योति ने बताया कि उसने पापा को साइकिल पर बिठाकर 10 मई को गुरुग्राम से चलना शुरू किया और 16 मई की शाम घर पहुंच गई। रास्ते में उसे बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ा, हालांकि कुछ लोगों ने उनकी मदद भी की।

रेकमेंडेड खबरें

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close