world

जापानी मैगजीन की अनोखी भूल: विमेंस यूनिवर्सिटी की 'Ease of Sex' रैंकिंग की, मांगनी पड़ी माफी



जापान की एक मैगजीन ने कुछ विमेंस यूनिवर्सिटी को रैंक करते हुए आर्टिकल छापा था कि किस यूनिवर्सिटी की स्टूडेंट्स को ड्रिंक पार्टी के दौरान सेक्स के लिए राजी कितना आसान है. लेकिन इस आर्टिकल पर विवाद बढ़ने के बाद मैगजीन ने अब माफी मांग ली है. इस मैगजीन का नाम स्पा है.

महिला यूनिवर्सिटीज की रैंकिंग की ये लिस्ट 25 दिसंबर को एक आर्टिकल में छापी गई थी. इस आर्टिकल को देखने के बाद कई लोगों ने अपना गुस्सा जाहिर किया. एक महिला ने सोशल मीडिया पर कैपेंन भी चलाया और मैगजीन से माफी मांगने की मांग की. साथ ही इसकी बिक्री रोकने की भी मांग की गई

महिला ने अपनी ऑनलाइन याचिका में आरोप लगाया कि इस आर्टिकल में महिलाओं का अपमान किया गया है और हमने इस मामले में मंगलवार तक 28 हजार लोगों का समर्थन हासिल किया है. ये कैंपेन Change.org नाम के प्लैटफॉर्म से शुरू किया गया था.

मैगजीन की तरफ से क्या कहा गया?

मैगजीन के एडिटोरियल डिपार्टमेंट ने इस मामले पर माफी मांगते हुए कहा कि हमने पाठकों से अपील करने के लिए सनसनीखेज भाषा का इस्तेमाल किया, इसके लिए हम माफी चाहते हैं. साथ ही हम इस बात के लिए भी माफी चाहते हैं कि हमने असली यूनिवर्सिटी के नामों की लिस्ट इस आर्टिकल में छापी.

क्या था आर्टिकल में?

NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक ये आर्टिकल एक तरह की प्रैक्टिस पर लिखा गया था जिसे ‘ग्यारानोमी’ कहते हैं. इस प्रैक्टिस का मतलब है ऐसी पार्टियां जहां पुरुष महिलाओं को शामिल होने के लिए पैसे दते हैं. इस आर्टिकल में लिखा गया था कि ऐसी पार्टियां कॉलेज जाने वाली छात्राओं के बीच काफी फेमस हैं.

इस आर्टिकल को एक ऐप डेवलपर के इंटरव्यू के साथ छापा गया था. महिला और पुरुषों को उनके पार्टनर तलाशने में मदद करने के लिए इस ऐप को डेवलप किया गया था. मैगजीन की तरफ से कहा गया कि यूनिवर्सिटीज की ये लिस्ट डेवलपर के इंटरव्यू पर आधारित थी.

जापान में पहले भी ऐसे कई मौके आए हैं जब महिलाओं को कई चीजों में दबाने की कोशिश की गई है. महिलाओं के राजनीति करने या बिजनेस करने के मामले में G7 देशों में जापान सबसे नीचे है. इसके अलावा #MeToo कैंपेन भी जापान में पूरी तरह दबा दिया गया था. इसके अलावा शिक्षा के क्षेत्र में भी महिलाओं की हिस्सेदारी जापान में काफी कम है.

Live Share Market

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES