मध्य एशियाई देशों के बीच विकास की साझेदारी को आगे बढ़ाएगा यह सम्मेलन: सुषमा स्वराज

1




पहली भारत-मध्य एशिया वार्ता पर गईं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को राजधानी समरकंद में सभा के समक्ष भारत का पक्ष रखा. उन्होंने इस दौरान कहा, ‘भारत ने भारत और मध्य एशियाई देशों के बीच इस विकास की साझेदारी को आगे बढ़ाने के लिए ‘भारत-मध्य एशिया विकास समूह’ की स्थापना का प्रस्ताव रखा है. हमारे सभी देशों को इस G2G समूह में प्रतिनिधित्व दिया जाएगा. इस समूह से ठोस प्रस्तावों के साथ आने का अनुरोध किया जाएगा.’

साथ ही उन्होंने इस सभा में चाबहार दिवस का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा, ‘भारत, ईरान और अफगानिस्तान के संयुक्त प्रयासों से ईरान में चाबहार पोर्ट का विकास हुआ. जो अफगानिस्तान और संभवतः मध्य ऐशिया से जोड़ने वाला मार्ग है. हमें 26 फरवरी को चाबहार दिवस अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में चाबहार दिवस पर मध्य एशियाई देशों की भागीदारी को देखकर खुशी होगी.’

EAM: India proposes setting up of "India-Central Asia Development Group” to take forward this development partnership between India & Central Asian countries. All our countries will be represented in this G2G group. This Group will be requested to come up with concrete proposals pic.twitter.com/8DsgNeNMla
— ANI (@ANI) January 13, 2019

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, ‘अफगानिस्तान के साथ समरकंद  में इस सभा में मौजूद हो कर मुझे काफी खुशी हो रही है. मैं भाग लेने के लिए इस वार्ता में शामिल होने वाले मध्य एशिया और अफगानिस्तान के विदेश मंत्रियों की और मेजबानी के लिए उज्बेकिस्तान सरकार की आभारी हूं. इसी के साथ उन्होंने कहा, ‘भारत 2020 में भारत में विदेश मंत्रियों के स्तर पर अफगानिस्तान की भागीदारी के साथ अगले भारत-मध्य एशिया वार्ता की मेजबानी करने को लेकर काफी उत्साहित है.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here