आतंकवाद और चरमपंथ के खिलाफ लड़ाई में भारत को सऊदी अरब का समर्थन किया

1




सऊदी अरब ने शुक्रवार को कहा कि वह आतंकवाद और चरमपंथ के खिलाफ भारत की लड़ाई में उसके साथ खड़ा है. उसने जम्मू कश्मीर के पुलवामा में पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए- मोहम्मद के आत्मघाती हमले को ‘कायराना’ कृत्य करार दिया.

सऊदी अरब की यह कड़ी भर्त्सना ऐसे समय आयी है जब सऊदी अरब के शहजादे मोहम्मन बिन सलमान बिन अब्दुलअजीज अल साद शीर्ष भारतीय नेतृत्व के साथ अगले हफ्ते बातचीत करने के लिए भारत की राजकीय यात्रा पर आने वाले हैं.

पुलवामा में जैश ए मोहम्मद के आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के कम से कम 40 जवान शहीद हो गए.

ये भी पढ़ें: तस्वीरों में देखिए जब पुलवामा आतंकी हमले के बाद जम्मू में बिगड़े हालात

इस आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करते हुए सऊदी अरब के विदेश मंत्रालय ने कहा कि अर्धसैनिक काफिले को निशाना बनाकर किए गए इस विस्फोट की वह निंदा करता है.

सरकारी संवाद समिति सऊदी प्रेस एजेंसी ने विदेश मंत्रालय के सूत्र के हवाले से कहा कि सऊदी अरब इन कायरना आतंकवादी कृत्यों को खारिज करता है और वह आतंकवाद एवं चरमपंथ के खिलाफ लड़ाई में ‘मित्र भारत गणतंत्र’ के साथ खड़ा है.

सऊदी प्रेस एजेंसी के अनुसार सऊदी अरब ने इस हमले में शहीद हुए जवानों के परिवारों, घायल हुए जवानों, भारत सरकार एवं भारत की जनता के प्रति संवेदना प्रकट की और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की.

ये भी पढ़ें: पुलवामा हमला: जम्मू में तोड़-फोड़, सांप्रदायिक हिंसा की आशंका के चलते लगा कर्फ्यू

पाकिस्तानी नेतृत्व के साथ बातचीत के लिए शनिवार को इस्लामाबाद पहुंच रहे शहजादे मंगलवार को भारत की दो दिवसीय यात्रा पर नयी दिल्ली पहुंचेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें भारत आने का न्यौता दिया था.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बृहस्पतिवार को नयी दिल्ली में कहा था, ‘जिन विषयों पर चर्चा होगी, वे निवेश, रक्षा, सुरक्षा, आतंकवाद के विरूद्ध अभियान, और नवीकरणीय ऊर्जा हैं.’

ये भी पढ़ें: Pulwama Attack: काफिले में शामिल CRPF के जवान की जुबानी हमले का आंखों-देखा हाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here