यहाँ और भी जानकारी है। 
Hamar Chhattisgarhindia

रोका-छेका अभियान के अंतर्गत 65 गौठानों में पशुओं का इलाज एवं दवाई वितरण

बलौदाबाजार, 26 जून 2021: राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी रोका छेका अभियान के अंतर्गत जिले में पिछले एक सप्ताह में 65 गौठानों में पशु चिकित्सा शिवर सह संगोष्ठी का आयोजन किया गया है। संगोष्ठी में पशुपालकों को रोका-छेका अभियान की महत्ता समझाई गई और उनकी पशुओं का टीकाकरण एवं उपचार किया गया। रोका-छेका का यह अभियान आगामी 1 जुलाई तक संचालित होगा। अभियान के अंतर्गत अब तक 26 हजार से ज्यादा पशुओं का आयाजित शिविरों में टीकाकरण एवं उपचार कर निःशुल्क दवाईयां वितरित की गई हैं।

गौरतलब है कि शासन की फ्लैगशीप योजनांतर्गत राज्य में फसल के बोवाई के पूर्व फसल को पशुओं के चरने से सुरक्षित रखने हेतु खुले में चराई कर रहे पशओं के नियंत्रण के लिए ’’रोका छेका’’ की प्रथा प्रचलित है। बलौदाबाजार जिले में कलेक्टर श्री सुनील जैन एवं जिला पंचायत सीईओ डॉ. फरीहा आलम के मार्गदर्शन में गत 20 जून से ’’रोका-छेका’’ कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। कार्यक्रम अंतर्गत पशुओं के चरने से फसल को होने वाली हानि से बचाने के लिए पशुपालक तथा ग्रामवासियों द्वारा पशुओं को बांधकर रखने अथवा चरवाहें की व्यवस्था करने हेतु विभिन्न गौठानों एवं परम्परागत ग्रामों के गौठानों में पशु चिकित्सा विभाग द्वारा पशु चिकित्सा शिविर के साथ पशुपालको एवं चरवाहों की संगोष्ठी विकासखण्ड के जनप्रतिनिधि को भी आयोजन में शामिल कर जनजागरूकता अभियान चलाया जा रहा है।

ग्रामीणों एवं स्व सहायता समूहों को पशुओं को बांधकर रखने, गौठानों में पशुओं के प्रबंधन व रख-रखाव की उचित व्यवस्था, गौठानों में चारा पैरा की व्यवस्था आदि के बारे में जानकारी दी गई। पशुपालको को पशुओं को खुले में न छोड़ने हेतु समझाईश दी जा रही है एवं मानसून पूर्व पशुओं में होने वाली संक्रामक बीमारी के बचाव हेतु टीके लगाये जा रहे है। डॉ. सी.के. पाण्डेय उपसंचालक पशु चिकित्सा सेवायें बलौदाबाजार-भाटापारा ने अवगत कराया कि ’’रोका छेका’’ कार्यक्रम अंतर्गत अभी तक 45 गौठानों एवं 20 परम्परागत गौठानों में कुल 65 शिविर लगाये गये तथा 65 संगोष्ठी आयोजित की गई। निःशुल्क पशु चिकित्सा शिविर में पशु उपचार 644, टीकाकरण 23592, औषधि वितरण 2537, बधियाकरण 06, कृमिनाशक दवा का वितरण 1808, किया गया। रोका -छेका का अभियान 1 जुलाई तक चलेगा। इसी क्रम में गौठानों में पशु चिकित्सा शिविर एवं कृषक संगोष्ठी के आयोजन किये जा रहे है।

Related Articles

Back to top button