Metro

महाराष्ट्र में डेल्टा प्लस वैरियंट वाले 1 मरीज की मौत, दूसरी बीमारियां भी थीं पेशेंट को

मुंबई
महाराष्ट्र में डेल्टा प्लस वैरियंट के एक मरीज की मौत का मामला सामने आया है। इस बात की पुष्टि खुद राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने की है। टोपे ने बताया कि 80 साल के मरीज को दूसरी बीमारियां भी थीं। यह मरीज महाराष्ट्र के रत्नागिरी में था। अब राज्य में डेल्टा प्लस मरीजों की संख्या 20 हो गई है।

फिलहाल राज्य सरकार इस बात की छानबीन कर रही है कि क्या यह रिप्लेसमेंट ऑफ वायरस हुआ है। क्या जिन्हें पहले से डेल्टा था अब डेल्टा प्लस हुआ है? डेल्टा को डेल्टा प्लस वायरस ने रिप्लेस किया है क्या? इन तमाम बातों की जांच में महाराष्ट्र की मेडिकल टीम जुटी हुई है।

इस पूरी जांच को महाराष्ट्र सरकार, केंद्र सरकार के साथ मिलकर कर रही है। फिलहाल महाराष्ट्र में ही किस डेल्टा प्लस वैरियंट वाले 21 मरीज थे। जिसमें से एक मरीज की मौत हो गई है। राजेश टोपे ने कहा कि घबराने की कोई बात नहीं है। उन्होंने यह भी बताया कि डेल्टा प्लस वाले कुछ मरीज ठीक होकर घर भी जा चुके हैं।

क्या है डेल्टा प्लस वैरिएंट
कोरोना का डेल्टा प्लस वैरिएंट बेहद संक्रामक डेल्टा वैरिएंट का ही बदला हुआ रूप है। भारत में दूसरी लहर के लिए डेल्टा ही जिम्मेदार माना जाता है। डेल्टा प्लस वैरिएंट (B.1.617.2.1) डेल्टा वेरिएंट (B.1.617.2) में ही आए बदलाव से बना है। डेल्टा वैरिएंट के स्पाइक प्रोटीन में आए एक बदलाव (म्यूटेशन) के कारण डेल्टा प्लस बना। स्पाइक प्रोटीन से ही वायरस शरीर में फैलता है। डेल्टा प्लस के स्पाइक प्रोटीन में जो बदलाव देखा गया है वही बदलाव साउथ अफ्रीका में सबसे पहले पाए गए बीटा वैरिएंट में भी देखा गया है।

‘डेल्टा प्लस को लेकर चिंता की वजह नहीं’
महाराष्ट्र के कोविड-19 टास्क फोर्स के सदस्य डॉ. शशांक जोशी का कहना है कि कोरोना वायरस के ‘डेल्टा प्लस’ स्वरूप को लेकर चिंता करने के लिए पर्याप्त आंकड़े नहीं हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा, हमें केवल इस बात की चिंता करनी चाहिए कि हम दो मास्क लगाकर, भीड़भाड़ से बचकर और टीका लगवाकर कोविड अनुकूल व्यवहार का सख्ती से पालन करते रहें।

महाराष्ट्र में अबतक 3 करोड़ टीका लगावैक्सीनेशन के मामले में महाराष्ट्र सरकार ने नया कीर्तिमान स्थापित किया है। जानकारी के मुताबिक महाराष्ट्र में अब तक तीन करोड़ से ज्यादा लोगों का टीकाकरण किया गया है। महाराष्ट्र के एसीएस हेल्थ डॉक्टर प्रदीप व्यास के मुताबिक राज्य में अब तक तीन करोड़ 27हज़ार 217 लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

Related Articles

Back to top button