Metro

मुंबई में फर्जी वैक्सीनेशन का बड़ा रैकेट, 2000 से ज्यादा शिकार… HC में उद्धव सरकार ने माना

मुंबई
महाराष्ट्र सरकार ने बॉम्बे हाई कोर्ट को बताया कि मुंबई में नौ अलग-अलग टीकाकरण शिविरों में 2,053 लोग फर्जी वैक्सीन का शिकार हुए हैं। बोरिवली में 514, कांदिवली में 398, वर्सोवा में 365, लोअर परेल में 207 और मालाड में 30 लोगों को फर्जी टीका लगाने के मामले सामने आए हैं। अब तक 400 गवाहों के बयानों को दर्ज कर कई एफआईआर दर्ज की गई हैं।

फर्जी टीकाकरण पर चिंता जताते हुए हाई कोर्ट ने राज्य और बीएमसी को निर्देश दिया कि वे इसे रोकने के लिए एक नीति पर हलफनामा दाखिल करें, जिसकी सुनवाई 29 जून को होगी। मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जी.एस. कुलकर्णी की पीठ कोरोना वायरस के टीकों से जुड़ी जनहित याचिकाओं पर गुरुवार को भी सुनवाई की है।

राज्य सरकार के वकील दीपक ठाकरे ने पीठ को बताया कि शहर में अब तक कम से कम नौ फर्जी शिविरों का आयोजन किया गया और इस सिलसिले में चार अलग-अलग एफआईआर दर्ज की गई हैं। राज्य सरकार ने इस मामले में जारी जांच संबंधी स्थिति रिपोर्ट भी दाखिल की।

पीठ ने राज्य की रिपोर्ट स्वीकार करते हुए कहा कि राज्य सरकार और बीएमसी के अधिकारियों को इस बीच पीड़ितों में फर्जी वैक्सीन के दुष्प्रभाव का पता लगाने और उनकी जांच करवाने के लिए कदम उठाने चाहिए।

पीठ ने जताई नाराजगी
गुरुवार को सुनवाई के दौरान पीठ ने इस बात पर भी नाराजगी जताई कि राज्य सरकार ने हाउसिंग सोसायटी, कार्यालयों आदि में वैक्सीनेशन कैंप आयोजित करने संबंधी विशेष दिशा-निर्देश तय नहीं किए हैं, जबकि हाई कोर्ट इस बारे में इस महीने की शुरुआत में आदेश दे चुकी है।

फर्जी टीकाकरण के बढ़ रहे मामले
फर्जी टीकाकरण मामले में करीब आधे दर्जन लोगों के खिलाफ भोईवाडा पुलिस ने मामला दर्ज किया है। इसके अलावा बोरिवली और बांगुर नगर पुलिस ने भी केस दर्ज किया है।

पुलिस के मुताबिक, इस गिरोह ने परेल स्थित पोद्दार एजुकेशन सेंटर में 28 और 29 मई को कोविड टीकाकरण शिविर का आयोजन कर सेंटर के 207 कर्मचारियों को टीका लगाकर 2,44,800 रुपये वसूल किए थे। टीका लगाने वाले को नानावटी एवं लाइफ लाइन केयर हॉस्पिटल का प्रमाण पत्र दिए थे।

पुलिस के मुताबिक, इनमें से एक आरोपी का नाम महेंद्र सिंह है, जो कांदिवली हीरानंदानी हेरिटेज फर्जी टीकाकरण मामले में अभी कांदिवली पुलिस की गिरफ्त में है। अब तक 6 लोगों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है, जिनमें एक महिला गुड़िया यादव भी हैं।

इसके अलावा बांगुर नगर में एक राष्ट्रीय बैंक की शिकायत पर, जबकि बोरिवली में एक निजी संस्था की शिकायत पर केस दर्ज किया गया है। बोरिवली में 504 लोगों को इस गिरोह ने टीका लगाया था। इससे पूर्व कांदिवली, वर्सोवा, खार और बोरीवली पुलिस में इस गिरोह के खिलाफ केस दर्ज हैं।

Related Articles

Back to top button