यहाँ और भी जानकारी है। 
एक मुलाकात

यह लॉकडाउन नहीं..लेकिन सख्ती से होगा पालन..कलेक्टर डॉ.मित्तर ने कहा-कम्यूनिटी स्प्रेड को रोकना जरूरी..आदेश उल्ल्ंघन पर वैधानिक कार्रवाई

बिलासपुर—-हम इसे लाकडाउन नहीं कह सकते..क्योंकि हमने व्यापक क्षेत्र को संक्रमित मानते हुए कन्टेनमेन्ट बनाकर अत्यावश्यक सेवाओं को छोड़कर गतिविधियों पर प्रतिबन्ध लगा रहे है। निश्चित रूप से यह थोड़ा सख्त होगा। लेकिन जनहित और बिलासपुर के लिए बहुत जरूरी है। यह बात कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने बातचीत के दौरान कही। कलेक्टर ने कहा हमने फैसला से पहले सबके हितों का ध्यान रखा है। प्रक्रिया सख्त लेकिन बहुत जरूरी भी है। क्योंकि अभी मामला कम्यूनिटी प्रसार तक नहीं पहुंचा है। यह सही अवसर भी है कि हम उसका चैन तोड़ें।

                   डॉ.सारांश मित्तर ने कहा कि 23 से एक सप्ताह तक जिले के कुछ चुनिन्दा व्यापक स्थान में प्रतिबन्धित जोन घोषित किया है। इसे लाकडाउन बिलकुल नहीं कहा जाए। लेकिन यह प्रक्रिया थोड़ी सख्त होगी। बिलासपुर प्रदेश का बड़ा और महत्वूर्ण शहर है। लेकिन हम प्रयास के बाद भी कोरोना संक्रमण की संख्या को सही तरीके से रोक नहीं पा रहे हैं। नागरिकों ने कोरोना कोगंभीरता के साथ नहीं ले रहे है। यही कारण है कि खतरा बढ़ता जा रहा है। इस खतरा को रोकने का एक मात्र उपाय व्यापक क्षेत्र को कन्टेनमेन्ट मानते हुए अत्यावश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी गतिविधियों पर अंकुश लगाया जाए। यदि नागरिकों ने थोड़ी सी भी गंभीरता दिखाया तो परिणाम अच्छा आएगा। हम कम्यूनििट स्प्रेड के खतरे से बच जाएंगे।

                            इसके लिए संयुक्त टास्क बनाया गया है। सुबह 6 से 12 के बीच लोगों को जरूरी सेवाओं तक कोई प्रतिबन्ध नहीं रहेगा। लेकिन लोगों को सावधान जरूर रहना होगा। अनवाश्यक रूप से घूमने वालों के खिलाफ बहुत ही सख्त कार्रवाई होगी। इस दौरान जिला और पुलिस प्रशासन के अधिकारियों की एक एक गतिविधियों पर पैनी नजर रहेगी। इस बार यदि मामले को यदि लोगों ने गंभीरता से नही लिया तो वैधानिक कार्रवाई भी जाएगी।

               पढ़ें कलेक्टर ने बिलासपुर अन्य क्षेत्र की जनता से क्या निवेदन किया है।

 

loading…

Related Articles

Back to top button