यहाँ और भी जानकारी है। 
Metro

T-3 नीति के बाद शुरू हुआ UP में फ्री वैक्सीनेशन का महाअभियान, जानें क्या है CM योगी की तैयारियां

हेमेन्द्र त्रिपाठी, लखनऊउत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर में बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए राज्य की योगी सरकार ने सूबे में स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को बेहतर तरीके से लागू करने पर तेजी से जोर दिया। शुरुआती दिनों में राज्य सरकार की ओर से लागू की गई T-3 नीति के तहत प्रदेश में रोजाना लाखों लोगों की कोरोना टेस्टिंग की गई, जिसके फल स्वरूप कोरोना के मामलों में कमी आने के साथ यूपी देश में सबसे ज्यादा टेस्टिंग करने वाला पहला राज्य बन गया।

अब उत्तर प्रदेश की योगी सरकार राज्य में ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाने के उद्देश्य से दुनिया के सबसे बड़े निःशुल्क वैक्सीनेशन के महाअभियान की शुरुआत कर दी है, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से राज्य के आलाअफसरों को इस अभियान को बेहतर तरीके से लागू करने के लिए खास निर्देश भी दिए गए हैं।

21 जून
से शुरू हुआ निःशुल्क वैक्सीनेशन का महाअभियान
राज्य की योगी सरकार ने वैक्सीनेशन अभियान को रफ्तार देते हुए सोमवार यानि आज से प्रदेश में निःशुल्क वैक्सीनेशन के महाअभियान की शुरुआत कर दी है। इस अभियान के तहत राज्य में रोजाना 7 लाख लोगों के टीकाकरण की डोज देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। वहीं, जुलाई माह के शुरू होते ही वैक्सीनेशन की यह संख्या बढ़ा दी गयी है। ने आलाअफसरों को 1 जुलाई से वैक्सीनेशन अभियान में और अधिक तेजी दिखाते हुए प्रतिदिन 10 से 12 लाख लोगों को वैक्सीन की डोज देने का लक्ष्य निश्चित किया है।

अभियान के तहत 18 वर्ष से अधिक उम्र वालों को लगेगी निःशुल्क वैक्सीन, घर-घर भेजी जाएंगी बुलावा पर्ची
प्रधानमंत्री मोदी ने 21 जून से टीकाकरण का नया चरण शुरू करने की बात कहते हुए 18 वर्ष से अधिक उम्र वालों का निःशुल्क टीकाकरण कराने के लिए राज्य सरकारों को वैक्सीन उपलब्ध कराने की बात कही थी। इस महाअभियान के चलते अब राज्य में 18 वर्ष से अधिक उम्र वाले सभी लोगों को निःशुल्क वैक्सीन उपलब्ध कराई जाएगी। आगामी 1 जुलाई से रोजाना 10 से 12 लाख लोगों के वैक्सीनेशन का लक्ष्य पूरा करने के लिए सीएम योगी ने आलाधिकारियों को तैयारियों के साथ वैक्सीनेशन सेन्टर बढ़ाने के निर्देश जारी किए हैं। राज्य सरकार ने ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस वैक्सीनेशन महाअभियान का लाभ देने के लिए प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग की टीमें गांव-गांव जाकर लोगों को वैक्सीन लगाएंगी और इसके लिए लोगों को बुलावा पर्ची भेजी जाएगी। बुलावा पर्ची पर टीकाकरण का स्थान और तारीख लिखी होगी, इसी के आधार पर लोग सही दिन और समय पर वैक्सीनेशन सेंटर पर पहुंच जाएंगे।

वैक्सीनेशन से पहले टीम लोगों को करेगी जागरूक, क्विक रिस्पॉन्स टीम भी रहेगी एक्टिव
क्लस्टर में वैक्सीनेशन टीम के पहुंचने से पहले उस कल्सटर के लिए बनाई गई ‘कल्सटर मोबिलाइजेशन टीम’ वैक्सीनेशन के पहले कम से कम तीन दिनों तक लोगों में कोरोना टीके से जुड़ी भ्रांतियों को दूर कर उनको जानकारी देने और टीकाकरण कराने के लिए प्रेरित करेंगी। जन जागरूकता के लिए बनी टीम में प्रधान, शिक्षक, आशा व आंगनबाड़ी वर्कर आदि को शामिल किया गया है। प्रत्येक ब्लाक के गांवों को कई क्षेत्रों (कलस्टर) में बांटा जाएगा। कल्सटर में टीकाकरण के दौरान किसी भी तरह की प्रतिकूल घटना के प्रबंधन के लिए दो क्विक रिस्पॉन्स टीमों का गठन किया गया है। जो सभी कल्सटर में एक्टिव रहेंगी।

महाअभियान के तहत बढ़ाई गई वैक्सीनेशन सेंटर की संख्या
सोमवार से यूपी में शुरू हो रहे इस निःशुल्क वैक्सीनेशन महाअभियान के जरिए तय किए गए टीकाकरण के लक्ष्य को पूरा करने के लिए सीएम योगी ने जमीनी स्तर पर तैयारियां भी पूरी कर ली हैं, जिसके तहत प्रदेश में वैक्सीनेशन सेंटर और वैक्सीनेटर की संख्या में इजाफा किया गया है। राज्य में छह हजार वैक्सीनेशन सेंटर की संख्या को बढ़ाते हुए इसको दस हजार किया गया है। वहीं, प्रदेश में 12 हजार नए नर्सिंग स्टाफ को टीकाकरण अभियान से जोड़ा जाएगा, जो लोगों का टीकाकरण करेंगी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में नर्सिंग अंतिम वर्ष के प्रशिक्षुओं को वैक्सीनेटर के रूप में तैयार करने के आला अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

Related Articles

Back to top button