Hamar Chhattisgarh

अमन की उम्मीद..

रायपुर।छत्तीसगढ़ राज्य के बस्तर जिले में अमन की उम्मीद को लेकर नारायणपुर से रायपुर तक दांडी मार्च यात्रा शुरू की गई है । इसके पीछे मुख्य उद्देश्य है कि बस्तर में नक्सली हिंसा की समाप्ति हो। सरकार और माओवादियों के बीच वार्ता हो सके। छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद खात्मे के लिए यहां की सरकार और माओवादियों के लिए बड़ी चुनौती है ही ,साथ ही ऐसा नहीं लगता है कि दोनों पक्ष इसके लिए इच्छुक हैं।

इस दांडी यात्रा में सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि शामिल हैं।जिसमें कांग्रेस के पूर्व केंद्रीय मंत्री अरविंद नेताम राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के पूर्व अध्यक्ष और भाजपा नेता नंदकुमार साय, भाकपा नेता मनीष कुंजाम आदि शामिल हैं।इसके अलावा कई पत्रकार भी शामिल हैं। जिसमें दिवाकर मुक्तिबोध ,कमल शुक्ला सामाजिक कार्यकर्ता इंदु नेताम, वीरेंद्र पांडे भाजपा नेता और आदिवासी समाज के नेता डीसीपी राव भी शामिल है।

गौरतलब है कि कांग्रेस ने अपने 2018 के विधानसभा चुनाव घोषणा पत्र में इस बात का जिक्र किया था कि, उनकी सरकार बनी तो नक्सल नीति जरूर बनेगी । लेकिन अभी तक इस दिशा में सरकार ने कोई पहल नहीं की है ।आज भी दक्षिण बस्तर में करीब 15000 वर्ग किलोमीटर के इलाके में माओवादियों का राज चलता है।
@रमेश कुमार “रिपु”

Related Articles

Back to top button