Metro

कांग्रेस के बाद अब किसमें सेंधमारी की तैयारी? यूपी मिशन में जुटी बीजेपी का प्लान तो समझिए

लखनऊ
पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद के बीजेपी में जाने से उठा भगदड़ का बवंडर अभी यूपी की राजनीति में और बढ़ेगा। बीजेपी बड़ी जॉइनिंग से चुनाव के ऐन पहले यह संकेत साफ करने के प्रयास में है कि वह पहले से ज्यादा मजबूत है, क्योंकि चुनाव के वक्त लोग मजबूत के पाले में ही आते हैं। सूत्र बताते हैं कि कांग्रेस के कई और नेता भी बीजेपी के संपर्क में हैं। इनमें दो विधायक भी हैं।

अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले बीजेपी विपक्ष की ताकत को कमजोर करने की दिशा में आगे बढ़ चली है। निशाने पर सभी विपक्षी दल हैं। सूत्र बताते हैं कि कांग्रेस के सात विधायकों में अदिति सिंह और राकेश सिंह तो जाहिरी तौर पर बीजेपी के साथ हैं। बाकी के पांच विधायकों में तीन ऐसे हैं, जो अपनी जगह दूसरे दलों में तलाश रहे हैं।

पूर्वांचल के कद्दावर कांग्रेसी को भी रास आ रही बीजेपी
इनमें से दो बीजेपी के संपर्क में हैं और सही समय के इंतजार में हैं। इसके अलावा कांग्रेस के पूर्वांचल के एक कद्दावर नेता को भी बीजेपी की नजदीकी रास आ रही है। हालांकि उनके जाने का तय-तोड़ फाइनल नहीं हो पाया है। वहीं, कानपुर के भी एक कांग्रेस नेता के बीजेपी में जाने की अटकलें तेज हैं। बताते हैं कि वह पिछले विधानसभा चुनाव में ही बीजेपी में जाने की तैयारी में थे। अब जितिन के बीजेपी में जाने के बाद उन्हें भी यह मौका मुफीद दिख रहा है।

एसपी-बीएसपी में भी होगी सेंधमारी
बताते हैं कि केवल कांग्रेस ही नहीं बल्कि एसपी और बीएसपी भी बीजेपी के निशाने पर हैं। दरअसल, बीजेपी चाहती है कि विपक्ष चुनावी रंगत में आने से पहले ही इस बात का जवाब जनता के बीच देता फिरे कि अगर वे सत्ता के दावेदार हैं तो फिर उनके साथी बीजेपी में क्यों? राजनीतिक गलियारों में यह बात उठ रही है कि बीएसपी के ज्यादातर विधायक अब उसके अपने नहीं हैं।

इनमें से कई एसपी और तो कई बीजेपी के संपर्क में बताए जा रहे हैं। हाल ही में बीएसपी से किनारे किए गए दो नेताओं में से एक का बीजेपी में जाना लगभग तय है। सूत्र बताते हैं कि एसपी में भी कुछ तोड़फोड़ की कोशिशें शुरू हो गई हैं।

तलाशी जा रही जितिन की ‘डील’
जितिन के बीजेपी में जाने के बाद अब सियासी हलकों में वह ‘डील’ तलाशी जा रही है, जिसके बाद जितिन ने बीजेपी का दामन थामने का फैसला लिया। सूत्रों का दावा है कि मंत्री पद और विधान परिषद में सदस्य के तौर पर जितिन को यूपी की सियासत में लाया जाएगा। जिस तरह मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं हैं, उसे देखते हुए इस कयासबाजी को और भी बल मिल रहा है।

Related Articles

Back to top button