Metro

जब BJP के सीक्रेट ऑपरेशन से चौंकी कांग्रेस, एक नेता ने तो फोन ऑफ कर लिया

नई दिल्ली/लखनऊ
बीजेपी प्रवक्ता अनिल बलूनी ने जैसे ही बुधवार को किसी जानी-मानी हस्ती के दोपहर 1 बजे पार्टी में शामिल होने का ट्वीट किया, दिल्ली से लेकर यूपी के सियासी गलियारों में चर्चा तेज हो गई। सोशल मीडिया पर अटकलों का दौर शुरू हो गया और आखिरकार जब 1 एक बजे जितिन प्रसाद बीजेपी दफ्तर पहुंचे तब जाकर तस्वीर साफ हुई। जितिन को लेकर सोशल मीडिया पर अनुमान लगाया जा रहा था लेकिन असल तस्वीर कइयों के लिए चौंकाने वाली थी।

सोशल मीडिया में कांग्रेस के कई नामों की चर्चा हो रही थी जिसमें सचिन पायलट से लेकर मिलिंद देवड़ा का नाम भी शामिल था। हालांकि बीजेपी सूत्रों के मुताबिक, जितिन की जॉइनिंग को आखिरी वक्त तक गोपनीय रखा गया ताकि किसी तरह को कोई अड़चन न पैदा हो। साथ ही कांग्रेस नेताओं की तरफ से जितिन को मनाने के लिए भावुक प्रयास की गुंजाइश न बचे।

दरअसल 2019 में लोकसभा चुनाव से पहले भी जितिन के बीजेपी में शामिल होने की चर्चा हुई थी लेकिन कहा जाता है कि तब कांग्रेस महासचिव और यूपी की प्रभारी प्रियंका गांधी उन्हें मनाने में कामयाब हो गई थीं।

चूंकि बलूनी उत्तराखंड से आते हैं इसलिए ऐसे भी कयास लगे कि कोई पहाड़ी राज्य भगवा कैंप से जुड़ने जा रहा है। बार-बार फोन कॉल्स से तंग आकर वहां नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने कुछ समय के लिए अपना फोन भी स्विच ऑफ कर लिया था। एक बीजेपी नेता ने बताया, ‘इस बार कांग्रेस नेता तुरंत ऐक्शन में आ गए थे और उन्होंने यह पता लगाना शुरू कर दिया कि दिल्ली में इस वक्त उनका कौन सा नेता मौजूद है।’ पिछले साल राहुल की चौकड़ी में शामिल ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी बीजेपी जॉइन कर ली थी।

बुधवार को जितिन प्रसाद पहले रेल मंत्री पीयूष गोयल के आवास पहुंचे और वहां से बीजेपी कार्यालय पहुंचे। बाद में उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह से भी उनके आवास पर मुलाकात की। बीजेपी सूत्रों का कहना है कि जितिन प्रसाद को बीजेपी में शामिल करने का फैसले पर पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) बीएल संतोष के लखनऊ दौरे के बाद मुहर लगाई गई।

पिछले दिनों बीएल संतोष ने लखनऊ में बीजेपी विधायकों और मंत्रियों से सरकार के कामकाज पर फीडबैक लिया था। इस चर्चा में यह भी निकल कर आया कि पार्टी को यूपी में ब्राह्मण समुदाय के बीच अपनी पकड़ बनाए रखने की जरूरत है और जितिन इसमें मदद कर सकते हैं। वह खुद एक ब्राह्मण चेहरा हैं और पश्चिम यूपी के जिले शाहजहांपुर से आते हैं।

Related Articles

Back to top button