Metro

Exclusive: अचानक क्यों छोड़ी कांग्रेस, अब योगी से मुलाकात… जितिन प्रसाद ने बताया पूरा प्लान

लखनऊ
दो दशक से ज्यादा वक्त तक कांग्रेस पार्टी में सक्रिय राजनीति करने वाले अब भारतीय जनता पार्टी के सदस्य हो गए हैं। दिल्ली में सियासी संभावनाओं की तमाम चर्चाओं के बीच बुधवार दोपहर बीजेपी के दीनदयाल मार्ग स्थित हेडक्वार्टर में जितिन पार्टी का हिस्सा बन गए।


सदस्यता ग्रहण करने के बाद जितिन ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से खास बातचीत की। इस इंटरव्यू में जितिन ने वो सब कारण बताए जिस वजह से उन्होंने कांग्रेस का हाथ छोड़ा। जितिन ने ये भी बताया कि आगे के दौर में वो कैसे बीजेपी में फिट होंगे।

सवाल: प्रियंका गांधी और उनके सहयोगियों का दावा है कि यूपी में कांग्रेस फिर से रिवाइवल के रास्ते पर है। ऐसी हालत में भी आपने पार्टी छोड़ दी।

जवाब: हम राजनीति और पार्टी को जनता और अपने लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए चुनते हैं। मैं ये काम कांग्रेस में नहीं कर पा रहा था। आज मैं अपने को खुशकिस्मत मानता हूं कि मुझे विश्व की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी का हिस्सा होने का मौका मिला है। राजनीति का एक मात्र उद्देश्य लोगों की सेवा करना है। मुझे एक लंबे वक्त से ये महसूस हो रहा था कि मैं ये काम नहीं कर पा रहा हूं। मैं इस बहस में नहीं पड़ना चाहता कि यूपी में कांग्रेस का रिवाइवल हो रहा है या नहीं। मैंने बीजेपी इसलिए जॉइन की है, ताकि मैं इस पार्टी के लिए मन से काम कर सकूं।

सवाल: क्या आप एकदम विपरीत विचारधारा की पार्टी में खुद को ढाल पाएंगे?

जवाब: एक राजनेता की सिर्फ एक विचारधारा होती है, वो है देश, राज्य, जिले या अपने इलाके के लोगों का हित देखना। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नि:स्वार्थ भाव से ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ की नीति पर देश की सेवा कर रहे हैं। इससे बेहतर कोई विचारधारा नहीं हो सकती, अगर कोई पार्टी न्यू इंडिया की बात करे और सबके विकास के लिए काम करे।

सवाल: आप ने अतीत में कई बार बीजेपी की सेक्युलर छवि के दावे पर सवाल खड़ा किया था?

जवाब: एक विपक्षी नेता के रूप में हमें सरकार और सत्तापक्ष के दल पर सवाल उठाने ही होते हैं। लेकिन बीजेपी ने हर उठाए सवाल का एक सकारात्मक जवाब दिया। साथ ही सरकार ने जो नीतियां बनाईं, उनके मूल में एक भारत-श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना थी, जिसका अर्थ था कि सभी का एक जैसा विकास होना चाहिए।

सवाल: क्या आपको लगता है कि बीजेपी आपको प्रदेश में अपने एक नए ब्राह्मण चेहरे के रूप में प्रोजेक्ट करेगी?
जवाब: मुझे नहीं लगता कि देश में बीजेपी का नेतृत्व जाति आधारित मानकों पर तय होता है, इसलिए आपको अपना सवाल सुधारना चाहिए। जहां तक जिम्मेदारी की बात है, ये पार्टी के ऊपर है कि वो मेरा किस रूप में उपयोग करती है। मैंने पार्टी नेतृत्व से प्रभावित होकर बीजेपी का दामन थामा है और मेरा एकमात्र उद्देश्य लोगों की सेवा करना है।

सवाल: अचानक से ऐसा क्या हुआ कि आप ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया?

जवाब: मैंने पहले भी कहा कि हमारा परिवार 3 पीढ़ियों से कांग्रेस पार्टी का हिस्सा रहा है। ऐसे में इस तरह का कोई भी फैसला अचानक नहीं हो सकता। मैंने एक लंबे समय तक सारा विचार करने के बाद ही ये फैसला लिया। ये जरूर है कि काफी वक्त से मेरे दिमाग में ये बात थी कि मैं अपने लोगों के लिए वो नहीं कर पा रहा, जो कि उनके लिए जरूरी है।

सवाल: क्या आप ने सीएम योगी से भी मुलाकात की है?

जवाब: मैं अभी पीएम नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा जी से भेंट की है। मैं जल्द ही और शीर्ष पार्टी नेताओं के पास उनके आशीर्वाद लेने के लिए जाऊंगा।

Related Articles

Back to top button