Metro

14 जून तक इसी तरह तर-बतर रहेगी मुंबई, आज समंदर से उठेंगी ऊंची लहरें

मुंबई
मुंबई में बुधवार को मॉनसून ने जोरदार दस्तक दी। मॉनसून के पहले ही दिन मुंबई में अधिकतम 220 एमएम बारिश दर्ज की गई। आईएमडी मुंबई ने बुधवार शाम 5 बजे तक सांताक्रूज में सबसे अधिक 220.6 एमएम बारिश दर्ज की। बीएमसी ने शहर में 102.29 एमएम, पूर्व उपनगर में 169.67 एमएम और पश्चिमी उपनगर में 137 एमएम बारिश दर्ज की है।

मौसम वैज्ञानिक महेश पालवत के अनुसार, 10 जून को मुंबई में मॉनसून सक्रिय होने वाला था लेकिन एक दिन पहले ही मॉनसून मुंबई, ठाणे, पालघर में सक्रिय हो गया। पालवत के अनुसार, 11 जून को उत्तर पूर्वी अरब सागर में एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन बनेगा और 13 जून को बंगाल की खाड़ी में बनने वाले लो-प्रेशर विदर्भ में प्रवेश करेगा। नतीजतन आगामी कुछ दिन तक तेज बारिश जारी रहने की संभावना है। कुछ स्थानों पर गरज के साथ बिजली कड़कने की भी आशंका है।

मुंबई के लिए अगले 48 घंटे चुनौती भरे
मौसम विभाग ने अगले 48 घंटे मुंबई और इसके आसपास के इलाकों ठाणे, पालघर और रायगड जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी है। बुधवार को दिन में 11:43 बजे 4.16 मीटर और दोपहर 12:17 बजे 4.26 मीटर ऊंचा हाई टाइड आया। गुरुवार को दोपहर 12:17 बजे 4.26 मीटर हाई टाइड आने की घोषणा मौसम विभाग ने की है।

मौसम विभाग ने मुंबई के साथ ही कोंकण में भी 14 जून तक तेज बारिश होने की संभावना जताई है। इस दौरान बारिश के साथ ही तेज हवा भी चल सकती है। रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग में भी तेज बारिश होने का अनुमान लगाया गया है। सागर के करीब रहने वाले नागरिकों के लिए अलर्ट जारी किया गया।

सीएम ने की जिलाधिकारियों से बातचीत की
मॉनसून के पहले ही दिन की बारिश ने सरकार को अलर्ट कर दिया। महाराष्ट्र के ज्यादातर हिस्से में भारी बरसात हुई। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने नियंत्रण कक्ष से ठाणे, रायगड, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग और पालघर जिलों के जिलाधिकारियों से बातचीत की। इन क्षेत्रों में लगातार बारिश के बाद कई इलाकों में पानी भरने से जनजीवन प्रभावित हो गया है।

मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा कि मौसम विज्ञान विभाग ने मॉनसून के आने की घोषणा के साथ ही अगले तीन दिन में भारी बारिश का पूर्वानुमान जताया है। ठाकरे ने आपदा प्रबंधन की एक बैठक की अध्यक्षता की और भारी बारिश की वजह से पैदा होने वाले वाली किसी भी स्थिति से निपटने के लिए अधिकारियों को तैयार रहने को कहा है।

बारिश ने बिगाड़ी बेस्ट बसों की चाल
लोकल ट्रेनों में सामान्य लोगों को अनुमति नहीं होने के कारण मुंबईकरों के लिए बेस्ट की बसें ही सहारा हैं, लेकिन दो दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश ने बेस्ट की चाल बिगाड़ दी। बुधवार को सुबह से ही शहर के कई इलाकों में जलजमाव के कारण बेस्ट की बसों के रूट बदले गए। इसी तरह कईं बसें पानी भरने के कारण खराब भी हुईं।

बुधवार को बेस्ट की 3349 बसें सड़कों पर उतरीं, लेकिन पानी भर जाने के कारण करीब 50 बसों में तकनीकी खराबी आई। इस दौरान बेस्ट की एक बस में छाता तानकर बस चलाते हुए ड्राइवर का विडियो भी वायरल हुआ। बस की छत से पानी लीक होने के कारण मजबूरन ड्राइवर को छाता तानना पड़ा। इस विडियो पर बेस्ट के जनसंपर्क विभाग ने बताया कि इसे बेकबे डिपो को भेजा गया है और मामले की जांच की जा रही है।

बेस्ट में बढ़े यात्री
इसी सप्ताह बेस्ट की सभी बसों में यात्री क्षमता 100 फीसदी कर दी गई। बस में मौजूद सभी सीटों पर यात्री बिठाने की अनुमति मिल गई है। इससे पहले केवल 50% से बसें चल रही थीं। बेस्ट ने बताया कि 7 जून को करीब 18 लाख यात्रियों ने बसों की सवारी की। हालांकि, बुधवार को बारिश के कारण बेस्ट की बसों में ज्यादा यात्री नहीं दिखाई दिए।

Related Articles

Back to top button