Metro

50 बच्चों की पढ़ाई का खर्च, 54 कोविड मरीजों की मदद… 'पुलिस वाली दीदी' ने लिखी इंसानियत की नई इबारत

ऐसे कई सारे पुलिसकर्मी होते हैं, जो अपनी ड्यूटी की सीमा से बाहर जाकर लोगों की मदद करते हैं। मुंबई पुलिस में ऐसी ही एक सब इंस्पेक्टर हैं, जिन्होंने मानवता की अद्भुत मिसाल कायम की है। 40 साल की रेहाना शेख ने 50 गरीब बच्चों की शिक्षा का भार उठाने के साथ ही 54 लोगों को प्लाज्मा, ऑक्सिजन, ब्लड और हॉस्पिटल की सहायता भी मुहैया कराई। आइए आगे तस्वीरों में देखते हैं पूरा मामला….

ऐसे कई सारे पुलिसकर्मी होते हैं, जो अपनी ड्यूटी की सीमा से बाहर जाकर लोगों की मदद करते हैं। मुंबई पुलिस में ऐसी ही एक सब इंस्पेक्टर हैं, जिन्होंने मानवता की अद्भुत मिसाल कायम की है। 40 साल की रेहाना शेख ने 50 गरीब बच्चों की शिक्षा का भार उठाने के साथ ही 54 लोगों को प्लाज्मा, ऑक्सिजन, ब्लड और हॉस्पिटल की सहायता भी मुहैया कराई।

50 बच्चों की पढ़ाई का खर्च, 54 कोविड मरीजों की मदद...मुंबई पुलिस की 'मदर टेरेसा' रेहाना शेख

ऐसे कई सारे पुलिसकर्मी होते हैं, जो अपनी ड्यूटी की सीमा से बाहर जाकर लोगों की मदद करते हैं। मुंबई पुलिस में ऐसी ही एक सब इंस्पेक्टर हैं, जिन्होंने मानवता की अद्भुत मिसाल कायम की है। 40 साल की रेहाना शेख ने 50 गरीब बच्चों की शिक्षा का भार उठाने के साथ ही 54 लोगों को प्लाज्मा, ऑक्सिजन, ब्लड और हॉस्पिटल की सहायता भी मुहैया कराई। आइए आगे तस्वीरों में देखते हैं पूरा मामला….

रेहाना ने पेश की ​मानवता की मिसाल, कमिश्नर ने किया सम्मानित
रेहाना ने पेश की ​मानवता की मिसाल, कमिश्नर ने किया सम्मानित

मानवता और कर्तव्यनिष्ठा की मिसाल कायम करने वाली रेहाना शेख को मुंबई पुलिस के कमिश्नर हेमंत नगराले ने सम्मानित किया। पुलिस की ड्यूटी के साथ ही सामाजिक जिम्मेदारी का निर्वहन करने के लिए कमिश्नर ने रेहाना को अपने ऑफिस में बुलाकर सर्टिफिकेट दिया।

​ईद और बेटी के बर्थडे की सेविंग को किया बच्चों पर खर्च
​ईद और बेटी के बर्थडे की सेविंग को किया बच्चों पर खर्च

रेहाना ने रायगढ़ के बच्चों की दसवीं क्लास तक पढ़ाई का खर्च उठाने का वादा किया। उन्होंने कहा, ‘पिछले साल मुझे रायगढ़ के स्कूल के बारे में पता चला। प्रिंसिपल से बात कर वहां पहुंचने पर देखा कि अधिकतर बच्चे गरीब परिवार से हैं, जिनके पास पहनने के लिए चप्पल तक नहीं थी। मैंने अपनी बेटी के जन्मदिन और ईद में खरीददारी के लिए कुछ सेविंग की थी, जिसे बच्चों के लिए खर्च कर दिया।’

​प्लाज्मा, ब्लड, बेड…लगातार करती रहीं मरीजों की मदद
​प्लाज्मा, ब्लड, बेड...लगातार करती रहीं मरीजों की मदद

साल 2000 में कॉन्सटेबल के तौर पर पुलिस फोर्स से जुड़ने वाली रेहाना ने बताया कि पिछले साल एक कॉन्सटेबल की मां के लिए इंजेक्शन के लिए मशक्कत की। इसके बाद मुझे हौसला मिला और अधिक से अधिक लोगों की मदद की। पुलिस विभाग से ही कई लोगों ने ब्लड, प्लाज्मा और अस्पतालों में बेड की गुजारिश की। हमने वॉट्सऐप से लेकर अन्य समूहों की मदद से प्रयास किया।

​एथलीट भी हैं रेहाना शेख, पति कहते हैं ‘मदर टेरेसा’
​एथलीट भी हैं रेहाना शेख, पति कहते हैं 'मदर टेरेसा'

रेहाना के पिता अब्दुल नबी बागवान मुंबई पुलिस से सब इंस्पेक्टर के पद से रिटायर हुए हैं। पति भी पुलिस में हैं और रेहाना को प्यार से ‘मदर टेरेसा’ कहकर बुलाते हैं। रेहाना शेख एथलीट और वॉलीबॉल प्लेयर रही हैं। 2017 में श्रीलंका में अपनी फोर्स का प्रतिनिधित्व करते हुए उन्होंने दो गोल्ड और एक सिल्वर मेडल अपने नाम किया था।

Related Articles

Back to top button