madhya pradesh

जेलर ने ऊपर लगा रही सज्जू की हत्या का आरोप, पत्नी ने कार्यवाही के लिए लगाई गुहार

अविनाश शर्मा शहडोल

शहडोल, । उपजेल बुढ़ार में बंदी रहे साजिद उर्फ स’जू का शव जेल के भीतर सीढियों से लटका हुआ 30 जुलाई की सुबह मिला था, जिसके बाद पुलिस और प्रशासन के आलाधिकारी मौके पर पहुंचे थे। चिकित्सकों की टीम ने पीएम करने के बाद शव परिजनों को सौंपा था, देर शाम को आक्रोषित लोगों ने धनपुरी के आजाद चौक में कई घंटे जाम लगा दिया था। मृतक की पत्नी ने जेलर पर प्रताडऩा सहित हत्या के आरोप लगाते हुए कार्यवाही की मांग की है।

प्रताड़ित करता था जेलर :

 

मृतक सज्जू की पत्नी पिंकी बानो ने आरोप लगाया है कि उपजेल में पदस्थ जेलर श्याम सिंह कुशवाहा अक्सर उसे अलग-अलग बहानों को लेकर प्रताड़ित किया करता था, कभी दाढ़ी कटवाने को लेकर, तो कभी अन्य मामलों में हमेशा उसका पति जेलर की प्रताड़ना से तंग था। 30 जुलाई को उसे खबर मिली की उसके पति ने फांसी लगा ली है, लेकिन उसे विश्वास नहीं हुआ।

 

हत्या कर टांगी लाश :

 

पिंकी बानो का आरोप है कि जेलर ने षडयंत्र के तहत उसके पति की हत्या करवाई और फिर फांसी का रूप देने के लिए शव को फंदे पर लटकवा दिया। सुनियोजित तरीके से मारपीट करने के बाद उसके पति को जेल के भीतर मौत के घाट उतार दिया गया, जिसके लिए जेलर स्वयं जिम्मेदार हैं।

 

बंदियो ने बताई हकीकत :

 

सज्जू की मौत के बाद जब उसके माता-पिता को जेल के अंदर बुलाया गया तो, बंदियो ने खुद बताया कि जेलर अक्सर सज्जू को प्रताड़ित करने के साथ ही मारपीट किया करता था, जब यह सब बातें बंदी मृतक के माता-पिता को बता रहे थे तो, साक्ष्य उजागर न हो, इसलिए जेलर के द्वारा आनन-फानन में दोनों को जेल से बाहर भेज दिया गया।

मासूम बच्चों के भरण-पोषण की जिम्मेदारी :

मृतक की पत्नी ने बताया कि उसके पति की मौत के बाद अब उसके ऊपर जीवनयापन का संकट भी खड़ा हो गया है, उसके मासूम बच्चे हैं, जिसमें चार वर्ष का पुत्र समीर खान और तीन साल की बेटी सना है, उसके पति की मौत हो जाने से अब उसे बच्चों के भविष्य के लिए संघर्ष करना पड़ेगा, जिसके जिम्मेदार जेलर होंगे।

5 ने जेलर के साथ मिलकर रचा षड़यंत्र :

सज्जू जिस आरोप में जेल जाने वाला था, उससे पहले ही उसने अपनी पत्नी को बताया था कि सिरौंजा के चंद्रप्रकाश जायसवाल, कपिल जायसवाल, शोभित राम जायसवाल, संजू जायसवाल व शैलेन्द्र जायसवाल ने उससे कहा था कि जेलर से उनकी दोस्ती है और वह अब बाहर नहीं आयेगा। उसे पूरा यकीन है कि इन लोगों ने जेलर के साथ मिलकर उसके पति की हत्या करवा दी। पीड़िता ने इस मामले में दोषी जेलर पर कानूनी और वैधानिक कार्यवाही के साथ मासूम बच्चों को न्याय दिलाने के लिए गृहमंत्री, डीजीपी, मानवाधिकार आयोग, डीजी जेल, आईजी और एसपी शहडोल से शिकायत देकर कार्यवाही की मांग की है।

इनका कहना है :

इस मामले की मजिस्ट्रेटियल जांच के आदेश दे दिये गये है, जिसमें बुढ़ार न्यायालय के जज जांच करेंगे, उसमें जो भी रिपोर्ट सामने आयेगी, उस आधार पर दोषी के खिलाफ कार्यवाही प्रस्तावित की जायेगी।

जे.एल. नेटी, जेल अधीक्षक, शहडोल

Related Articles

Back to top button