Metro

बांग्लादेश और म्यांमार से रोहिंग्याओं को लाकर भारत में बसाता था, मास्टरमाइंड गिरफ्तार

निशिकांत त्रिवेदी, लखनऊउत्तर प्रदेश की एटीएस टीम ने बांग्लादेश और म्यामार से ले आकर रोहिंग्याओं को बसाने वाले मास्टरमाइंड को साथी समेत गिरफ्तार किया है। बीते जनवरी माह में भी लखनऊ से गिरफ्तार रोहिंग्या से पूछताछ के दरम्यान इस मास्टरमाइंड की तमाम खुफिया बातों का खुलासा हुआ था।

उत्तर प्रदेश की एटीएस टीम ने बीती 6 जनवरी को फर्जी दस्तावेज के आधार पर भारत में निवास कर रहे म्यांमार के अजीजुल्लाह को गिरफ्तार किया था। उसकी गिरफ्तारी के बाद इस बात का खुलासा हुआ कि फर्जी दस्तावेजों के आधार पर रोहिंग्याओं को बसाने वाला मास्टरमाइंड अजीजुल्लाह का बहनोई नूर आलम उर्फ रफीक है। उत्तर प्रदेश की एटीएस टीम उसी समय से उसकी तलाश में थी। मंगलवार को एटीएस को मिली सूचनाओं के आधार पर गाजियाबाद से नूर आलम और उसके साथी को एटीएस टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार किए गया मास्टरमाइंड नूर आलम और उसका साथी आमिर मूल रूप से बांग्लादेश के रहने वाले रोहिंग्या हैं।

बहुत आसानी से बनवाता था फर्जी दस्तावेजआमिर को नूर आलम विश्वास दिलाकर लाया था कि वह उसे भारत के फर्जी दस्तावेज बनवाकर देगा। इस समय नूर आलम मेरठ में और आमिर हुसैन खजूरी खास दिल्ली में छिपकर रह रहे थे। पकड़े गए मास्टरमाइंड को पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ करने और उनके अन्य साथियों के बारे में पता लगाने की बात एटीएस ने कही है। पकड़े गए इन रोहिंग्याओं के पास से फर्जी पैन कार्ड, आधार कार्ड एवं 65 हजार की भारतीय मुद्रा बरामद हुई है। एटीएस द्वारा बताया गया कि मास्टरमाइंड नूर आलम बहुत आसानी से फर्जी पासपोर्ट व भारत में निवास करने से सम्बंधित दस्तावेजों को तैयार करवा देता था।

Related Articles

Back to top button
close button