Metro

किसी भी लैब से कोरोना जांच के बाद OPD में दिखा सकेंगे, लोहिया और PGI में सर्विस शुरू

लखनऊ
लखनऊ में करीब दो महीने बाद सोमवार से फिर पीजीआई और लोहिया संस्थान की ओपीडी शुरू होगी। कोरोना से बचाव के लिए दोनों जगह मरीज और तीमारदार की कोविड निगेटिव रिपोर्ट जरूरी होगी। दोनो संस्थानों ने साफ किया है कि लोग आईसीएमआर से अधिकृत किसी भी लैब से जांच के बाद ओपीडी में दिखा सकेंगे, बशर्ते रिपोर्ट पोर्टल पर अपडेट हो।

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन जरूरी नहीं
पीजीआई में इस बार भी ऑनलाइन प्री-रजिस्ट्रेशन का इंतजाम है, लेकिन यह जरूरी नहीं होगा। लोग परिसर में बने काउंटर पर मौके पर प्री-रजिस्ट्रेशन करवा सकेंगे। पीजीआई के सीएमएस डॉ. गौरव अग्रवाल ने बताया कि ऑनलाइन प्री-रजिस्ट्रेशन वालों को ओपीडी में सीधे अपॉइंटमेंट मिलेगा, जबकि बाकी लोगों को काउंटर पर पहले प्री-रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।

20 नए और 40 पुराने मरीज ही देखे जाएंगे
पीजीआई की ओपीडी में फिलहाल 20 नए और 40 पुराने मरीज ही देखे जाएंगे। डॉक्टर गौरव ने बताया कि स्लॉट भरने के बाद बाकी मरीजों को आगे की तारीख दी जाएगी। इसके साथ कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट के बिना आए लोगों के लिए जांच का भी इंतजाम हैष। ऐसे लोग पहले सैंपल देंगे। फिर अगले दिन रिपोर्ट आने पर डॉक्टर को दिखा सकेंगे।

लोहिया में देखे जाएंगे ज्यादा मरीज
लोहिया संस्थान के सामान्य विभागों में रोज 100 मरीज देखे जाएंगे। इसमें 50 नए और 50 पुराने होंगे। वहीं, सुपरस्पेशलिटी विभागों में कुल 50 मरीज देखे जाएंगे, जिसमें 25 पुराने और 25 नए मरीजों के पर्चे बनेंगे। मरीज पांच दिन तक पुरानी कोविड निगेटिव रिपोर्ट दिखाकर यहां दिखा सकेंगे।

केजीएयमू में अभी सन्नाटा
केजीएमयू ने अभी ओपीडी शुरू करने का फैसला नहीं किया है। फिलहाल यहां ऑनलाइन ओपीडी चल रही है। इसके साथ डॉक्टर ई-संजीवनी पोर्टल पर भी मरीजों को देख रहे हैं। सीएमएस डॉ. एसएन शंखवार ने बताया कि अभी केजीएमयू में ब्लैक फंगस के करीब 300 मरीज भर्ती हैं। इसके साथ कोविड के मरीजों का भी इलाज चल रहा है। इस कारण अभी ओपीडी शुरू नहीं होगी। हालांकि ट्रॉमा, लारी और क्वीनमेरी में इमरजेंसी इलाज मुहैया करवाया जा रहा है।

Related Articles

Back to top button
close button