Metro

घर-घर राशन योजनाः अरविंद केजरीवाल का आरोप- इस मुश्किल वक्त में भी सबसे झगड़ रही केंद्र सरकार

नई दिल्ली
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने रविवार को केंद्र सरकार पर ‘घर-घर राशन’ योजना को रोकने का आरोप लगाया। केजरीवाल ने आरोप लगाया कि इस योजना को लागू करने की सारी तैयारियां पूरी हो गई थीं और अगले हफ्ते से इसे लागू किया जाना था, लेकिन दो दिन पहले केंद्र सरकार ने योजना पर रोक लगा दी। केजरीवाल ने कहा कि मुसीबत के समय में भी केंद्र सरकार सबसे झगड़ रही है।

योजना के लिए 5 बार केंद्र सरकार से मंजूरी ली थी
उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि देश 75 साल से राशन माफिया के चंगुल में है और गरीबों के लिए कागज़ों पर राशन जारी होता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने इस आधार पर इस योजना को रोका है कि दिल्ली सरकार ने उससे इसकी मंजूरी नहीं ली। उन्होंने दावा किया कि दिल्ली सरकार ने ‘घर-घर राशन’ योजना के लिए केंद्र सरकार से 5 बार मंजूरी ली है और कानूनन उसे ऐसा करने की जरूरत नहीं थी, फिर भी उसने मंजूरी ली, क्योंकि वह केंद्र सरकार के साथ कोई विवाद नहीं चाहते थे।

‘प्रधानमंत्री जी! सारा क्रेडिट आपका’मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में यह योजना सिर्फ दिल्ली में ही नहीं, बल्कि पूरे देश में लागू होनी चाहिए क्योंकि राशन की दुकानें ‘सुपरस्प्रेडर’ (महामारी के अत्यधिक प्रसार वाली जगह) हैं। केजरीवाल ने आगे कहा- ‘मेरा घर-घर राशन योजना लागू करवाने का एक ही मक़सद है- किसी भी तरह गरीबों को पूरा राशन उनके घर पर मिल जाए। प्रधानमंत्री जी, कृपया मुझे ये लागू करने दीजिए,सारा क्रेडिट आपका। मैं सारी दुनिया से कहूंगा कि ये योजना मोदी जी ने लागू की है।’

‘राशन माफिया बहुत ताकतवर हैं!’
दिल्ली सीएम केजरीवाल ने कहा, ’75 साल से इस देश की जनता राशन माफिया का शिकार होती आई है। 17 साल पहले मैंने इस माफिया के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई थी, हम पर 7 बार ख़तरनाक हमले हुए। मैंने कसम खाई थी: कभी ना कभी इस सिस्टम को ठीक ज़रुर करूंगा।’

Related Articles

Back to top button
close button