Metro

यूपी में काबिल टीचरों की कमी! शिक्षक पुरस्कार के लिए नहीं आ रहे आवेदन

लखनऊकिसी ने कोई अच्छा काम किया है तो उसे पुरस्कृत किया जाता है। पुरस्कार इसलिए भी दिए जाते हैं कि दूसरे भी उससे प्रेरित हों और अच्छा काम करें लेकिन लेने वाले ही तैयार न हों तो सवाल खड़े होते हैं। इस साल उत्तर प्रदेश राज्य शिक्षक सम्मान की चयन प्रक्रिया की शुरुआत ही ऐसे सवालों से घिर गई है। दरअसल सरकार ने प्रदेश भर से शिक्षकों से इसके लिए आवेदन मांगे हैं, लेकिन शिक्षक आवेदन ही नहीं कर रहे।

बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से 16 मई को पत्र जारी करके शिक्षकों से ऑनलाइन आवेदन मांगे गए थे। 24 मई तक 30 जिले तो ऐसे थे, जहां से एक भी आवेदन नहीं आया। बाकी जिलों से एक या दो आवेदन ही आए। सिर्फ चार जिले ही ऐसे हैं, जहां से तीन आवेदन आए। सभी जिलों से कुल 70 आवेदन आए।

आवेदन की तारीफ बढ़ाने के लिए भेजा प्रस्ताव
बेसिक शिक्षा निदेशक ने सभी बीएसए को पत्र लिखा कि अंतिम तारीख 31 मई तक हर जिले से कम से कम तीन-तीन आवेदन करवाने का प्रयास करें। इसके बाद भी आवेदन नहीं आए तो निदेशालय ने अंतिम तारीख बढ़ाने के लिए शासन को दोबारा प्रस्ताव भेजा है।

शिक्षकों के सवाल
प्राथमिक शिक्षक प्रशिक्षित स्नातक असोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष विनय कुमार सिंह कहते हैं प्रदेश में पौने पांच लाख शिक्षकों में से प्रति जिला एक शिक्षक का आवेदन न आना आश्चर्य की बात है। ऐसे में प्रक्रिया पर सवाल तो उठते ही हैं। हालांकि कोविड के कारण साइबर कैफे बंद होना और अन्य वजहें भी हो सकती हैं।

‘पहुंच वालों को दिया जाता है पुरस्कार’
वहीं, माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रांतीय मंत्री और प्रवक्ता डॉ. आरपी मिश्र कहते हैं कि पुरस्कार चाहे माध्यमिक शिक्षा विभाग के रहे हों या फिर बेसिक शिक्षा विभाग के। हमेशा ही विवादों में रहे हैं। जिसकी पहुंच होती है, उसे ही पुरस्कार दिया जाता है।

पहले भी होते रहे विवाद
डॉ. मिश्र बताते हैं कि पिछले साल की ही बात है, पुरस्कारों की लिस्ट जारी होने के बाद एक नाम बदला गया था। उस पर भी विवाद हुआ था। तत्कालीन माध्यमिक शिक्षा मंत्री ओम प्रकाश सिंह ने तो पुरस्कार समारोह के भरे मंच से यह कहा था कि शिक्षक पुरस्कार खरीदे जाते हैं। उन्होंने स्वीकार किया था कि मेरे पास ही कई सिफारिशें आती हैं। यही वजह है कि उन्होंने चयन प्रक्रिया बदलने की बात कही थी।

मिलता है 2 साल का सेवा विस्तारपुरस्कार पाने वाले शिक्षक को प्रमाण पत्र, पुरस्कार राशि के अलावा दो वर्ष का सेवा विस्तार, एक इन्क्रीमेंट भी मिलता है। इसके अलावा ट्रेन और बस के किराए में छूट जैसी कई सुविधाएं भी आजीवन मिलती हैं।

Related Articles

Back to top button