Metro

नई वेव से बचना है तो वायरस में बदलाव पर नजर रखनी होगी, एक्सपर्ट्स की राय

नई दिल्ली
कोविड महामारी की स्थिति फिलहाल दिल्ली में नियंत्रण में दिख रही है। लेकिन, नई वेव और नए म्यूटेशन का खतरा बना हुआ है। इससे बचना है तो जेनेटिक सिक्वेंसिंग बहुत जरूरी है। बड़े लेवल पर और जिले स्तर पर वायरस के बदलाव पर नजर रखनी होगी, ताकि कहीं पर भी वायरस में म्यूटेशन हो तो तुरंत इसका पता चल सके और म्यूटेशन पाए जाने पर माइक्रो लेवल पर कंटेनमेंट जोन बनाकर उसे रोका जा सके। डॉक्टरों का कहना है कि इलाज की तैयारी के साथ-साथ सरकार को म्यूटेशन पर भी नजर रखनी होगी।

नई पीक में दिल्ली के बचे 20% पर हो सकता है अटैक
सफदजरंग अस्पताल के कम्युनिटी मेडिसिन के एचओडी डॉ. जुगल किशोर ने कहा कि शहरी एरिया में 80 पर्सेंट तक लोग संक्रमित हो चुके हैं, लेकिन गांव वाले इलाकों में अभी भी खतरा बना हुआ है। इस बार जिस परिवार में एक भी कोई संक्रमित हुआ, पूरा परिवार कोविड पॉजिटिव हो गया। ऐसे में 80 पर्सेंट तक लोग संक्रमित हो गए, लेकिन 20 पर्सेंट अभी भी बाकी है। ऐसे में अगर नई पीक आती है तो इन पर अटैक होगा। लेकिन, अगर वायरस म्यूटेड हो गया तो बाकी लोगों को भी कुछ हद तक खतरा बढ़ सकता है। इसलिए, सतर्क रहना होगा। वायरस में बदलाव पर नजर रखने के लिए लगातार जेनेटिक सिक्वेंसिंग करनी होगी, सर्विलांस करना होगा।

सरकार को वैक्सीनेशन पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए
मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज की कम्युनिटी मेडिसीन की डॉ. नंदिनी शर्मा ने कहा कि जिस प्रकार वर्तमान स्थिति है, अगले तीन चार महीने कोई खतरा नहीं है। इस बीच सरकार की कोशिश होनी चाहिए कि ज्यादा से ज्यादा वैक्सीनेशन हो। इसके साथ नए वेरिएंट पर पैनी नजर रहे। हम सभी जानते हैं कि इस बार जो वेरिएंट था, वह पिछले साल दिसंबर से चल रहा था। लेकिन, ध्यान नहीं दिया और वह नया वेरिएंट फैलते-फैलते दिल्ली सहित पूरे देश में पहुंच गया।

दिल्ली में माइग्रेशन ज्यादा है, इसलिए, जिनोम सिक्वेसिंग करनी होगी। जिला स्तर पर ट्रैक करना होगा। हालांकि अभी भी जेनेटिक टेस्टिंग की जा रही है, लेकिन इसे बढ़ाना होगा। हमारी क्षमता है, हम ऐसा कर सकते हैं। इसलिए सरकार को इस पर फोकस करना चाहिए। डॉक्टर जुगल ने कहा कि आईसीएमआर सीरो सर्विलांस कर रही है। इससे यह साफ हो जाएगा कि पिछले वेव के बाद क्या स्थिति है। इससे यह साफ हो जाएगा कि किस स्तर पर संक्रमण पहुंच चुका है।

Related Articles

Back to top button