यहाँ और भी जानकारी है। 
Metro

गर्मी ने जुलाई में भी तोड़ा रेकॉर्ड, 90 सालों बाद दिल्ली में जुलाई का सबसे गर्म दिन

नई दिल्ली
गर्मी ने जुलाई में भी रेकॉर्ड बनाने का सिलसिला कायम रखा है। जुलाई के पहले ही दिन गर्मी ने 90 साल का रेकॉर्ड तोड़ दिया। मॉनसून के सीजन में दिल्ली तीन दिनों से लू का जबर्दस्त प्रकोप झेल रही है। तापमान लगातार बढ़ रहा है। हालांकि आज कुछ राहत मिलने की उम्मीद है। आंशिक तौर पर बादल छाएंगे, बूंदाबांदी होने की संभावना है। हालांकि तापमान में कुछ कमी आएगी, लेकिन उमस बढ़ेगी।

90 साल पहले दिल्ली में जुलाई में हुआ था ऐसा
जुलाई के पहले दिन तापमान 43.6 डिग्री तक पहुंच गया। यह सामान्य से 6 डिग्री अधिक रहा। मौसम विभाग के अनुसार, इससे पहले एक जुलाई 1931 को तापमान 45 डिग्री तक पहुंचा था। जुलाई में दो बार 5 जुलाई 1987 और 2 जुलाई 2012 को तापमान 43.5 डिग्री तापमान दर्ज हुआ है। गुरुवार को मंगेशपुर में तापमान 45.2 डिग्री पर पहुंच गया। नजफगढ़ में 44 डिग्री, पीतमपुरा में 44.3 डिग्री रहा। न्यूनतम तापमान भी बढ़कर 31.7 डिग्री पहुंच गया। यह सामान्य से चार डिग्री अधिक है। यह इस सीजन की सबसे गर्म सुबह रही। पीतमपुरा में न्यूनतम तापमान 35.2 डिग्री और पूसा में 35 डिग्री रहा।

आज गर्मी से थोड़ी राहत मिलने के आसार
स्थानीय मौसम विभाग के हेड डॉ. कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि शुक्रवार को गर्मी से थोड़ी राहत मिलेगी। आंशिक तौर पर बादल छाएंगे। 40 से 50 किलोमीटर की रफ्तार से धूल भरी गर्म हवाएं चलेंगी। कुछ जगहों पर बूंदाबांदी हो सकती है। अधिकतम तापमान 41 डिग्री रहेगा। हालांकि कुछ जगहों पर लू चलने की संभावना भी है। बूंदाबांदी दो दिनों तक रहेगी, लेकिन इससे बहुत अधिक उम्मीद रखना बेमानी है। 4 जुलाई से मौसम एक बार फिर शुष्क हो जाएगा। 7 जुलाई तक अधिकतम तापमान 40 डिग्री से उपर ही रहेगा।

‘जुलाई में बारिश अपनी कमी पूरी करेगी’
स्काईमेट के मौसम वैज्ञानिक महेश पलावत ने बताया कि 7 जुलाई के बाद मॉनसून आगे बढ़ेगा। राजधानी में जून में बारिश कम हुई है, लेकिन बारिश की यह कमी जुलाई में पूरी होने की पूरी संभवना है। जुलाई राजधानी के लिए सबसे अधिक बारिश वाला दूसरा महीना रहता है। इस महीने सामान्य तौर पर राजधानी में 210.6 मिलीमीटर बारिश होती है। जबकि सबसे अधिक बारिश अगस्त में 247.7 मिलीमीटर होती है।

Related Articles

Back to top button