Hamar Chhattisgarhindia

कोरोना से दिवंगत हुए डाॅ. गोविन्द सिंह की पुत्री को मिली अनुकम्पा नियुक्ति

ब्यूरो चीफ:- विपुल मिश्रा
रिपोर्टर:- शिव कुमार चौरसिया

बलरामपुर : 01 जून 2021 छत्तीसगढ़ शासन ने अनुकम्पा नियुक्ति के लिए प्रावधानित दस प्रतिशत पदों के सीमा-बंधन का नियम शिथिल किया है। शासन ने सीधी भर्ती के तृतीय श्रेणी के पदों पर अनुकंपा नियुक्ति के लंबित प्रकरणों के निराकरण के लिए दस प्रतिशत पदों के सीमा-बंधन में 31 मई 2022 तक के लिए छूट दी है।

इसके परिपालन में बलरामपुर-रामानुजगंज जिला के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा एक प्रकरण को निराकृत कर आश्रित सदस्य को नियुक्ति प्रदान की गयी। ज्ञातव्य है कि वाड्रफनगर के खण्ड चिकित्सा अधिकारी स्व. डाॅ. गोविन्द सिंह की 21 मई 2021 को असमय मृत्यु हो गयी थी। शासन द्वारा सीधी भर्ती के तृतीय श्रेणी के पदों पर अनुकंपा नियुक्ति के लंबित प्रकरणों के निराकरण के लिए दस प्रतिशत के सीमा बंधन को शिथिल किया गया है। जिसके तहत् स्व. डाॅ गोविन्द सिंह की पुत्री कुमारी एंजल सिंह को 100 बिस्तरीय अस्पताल वाड्रफनगर में सहायक ग्रेड-03 के पद पर अनुकम्पा नियुक्ति दी गई है।

कलेक्टर श्याम धावड़े ने कहा 

कलेक्टर श्याम धावड़े ने कहा कि कोरोना की कठिन परिस्थितियों में भी डाॅ. सिंह ने अपनी सेवाएं दी थी तथा आमजनों तक स्वास्थ्य सुविधाओं की पहुंच बनाने के लिए वे लगातार सक्रिय रहे। कोरोना वारियर के रूप में दी गई उनकी सेवाएं अतुलनीय है तथा उनकी कमी को पूरा नहीं किया जा सकता, किन्तु उनके आश्रितों का प्रशासन हर संभव सहयोग कर रहा है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने तत्परता के साथ प्रकरण का निराकण कर मिसाल पेश की है, उनकी पुत्री को अनुकम्पा नियुक्ति प्रदान की गयी है। इसी प्रकार अन्य विभागों में भी अनुकम्पा नियुक्ति का शीघ्र निराकरण कर आश्रितों को नियुक्ति दी जाये।

Related Articles

Back to top button
close button