Metro

हार्ट, लंग्स और ब्रेन…. कोरोना के बाद की परेशानियों का बच्चे भी बन रहे हैं शिकार

नई दिल्ली
पोस्ट कोविड समस्याएं सिर्फ व्यस्कों को ही नहीं, बल्कि बच्चों को भी खासा परेशान कर रही हैं। पोस्ट कोविड में बच्चों को हार्ट, लिवर, किडनी, लंग्स, ब्रेन फीवर, पेट में दर्द से जुड़ी परेशानियां हो रही हैं। वहीं व्यस्कों के मुकाबले इन्हें एडवांस किस्म के इलाज की जरूरत पड़ रही है। कोरोना से रिकवर होने के करीब 3 से 4 हफ्तों बाद बच्चों में इस तरह की परेशानियां देखने को मिल रही हैं।

5 से 15 साल तक के बच्चों में देखी जा रही समस्या
सर गंगाराम अस्पताल के पीडियाट्रिशियन डॉ. धीरेन गुप्ता बताते हैं कि पोस्ट कोविड में काफी बच्चों को हार्ट, लिवर, किडनी और शरीर के अन्य हिस्सों से जुड़ी समस्याएं हो रही हैं। बच्चों को बुखार आता है। बुखार की वजह से हार्ट, लिवर, किडनी, लंग्स, ब्रेन समेत कई अंग प्रभावित होते हैं। इसे मल्टी सिस्टम इंफ्लामेट्री सिंड्रोम (एमआईएस-सी) कहा जाता है। यह ज्यादातर 5 से 15 साल तक के बच्चों में देखा जा रहा है। डॉ. गुप्ता का कहना है कि वैसे तो यह एक हजार में से एक बच्चे को होता है, लेकिन जिसे होता है, उसे आईसीयू की जरूरत पड़ती है।

समय पर पहचान तो ठीक हो सकते हैं बच्चे
उन्होंने कहा कि 50 प्रतिशत बच्चे ऐसे होते हैं, जिन्हें हार्ट और ब्लड प्रेशर से संबंधित समस्याएं होती हैं। इसके बाद किसी बच्चे के लंग्स तो किसी का ब्रेन प्रभावित होता है। अच्छी बात यह है कि यदि समय पर इसकी पहचान कर ली जाए तो बच्चे ठीक हो सकते हैं। इससे होने वाली मृत्युदर बेहद कम है। पिछले 10 दिन में अस्पताल में 25 से 30 बच्चे भर्ती हुए हैं। उनमें से कुछ की स्थिति गंभीर है। कुछ सामान्य हैं। उनका कहना है कि यह स्थिति अलार्मिंग है, लेकिन घबराने की बात नहीं है।

पिछले साल आए थे 120 केस
डॉ. गुप्ता का कहना है कि पिछले साल उन्होंने मल्टी सिस्टम इंफ्लामेट्री सिंड्रोम के 120 बच्चों का इलाज किया था, जिसमें से केवल एक बच्चे की मौत हुई थी, बाकी सभी रिकवर होकर घर गए थे। इसमें मृत्युदर 10 प्रतिशत या इससे भी कम है। जिन बच्चे में यह सिंड्रोम होता है, उन्हें व्यस्कों के मुकाबले एडवांस इलाज की जरूरत होती है। आईसीयू में बच्चों पर खासकर निगरानी रखनी पड़ती है। उनके ब्लड प्रेशर से लेकर दिल की धड़कनों तक पर नजर रखी जाती है क्योंकि बच्चे पूरी तरह से विकसित नहीं हुए होते।

पैरंट्स इन बातों का ख्याल रखें

  • बच्चे के कोविड से रिकवर होने के बाद 6 से 8 हफ्तों तक उनके स्वास्थ्य को लेकर अलर्ट रहें
  • यदि बच्चे में किसी तरह की परेशानी नजर आए, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें
  • कोविड से रिकवर होने के बाद बच्चों को हेल्दी खाना दें, ताकि रिकवरी अच्छी हो सके
  • डॉक्टर ने जो दवाएं या इलाज बताया है, उसे बीच में ना छोड़ें

लक्षण

  • लगातार बुखार रहना
  • थकान
  • चकत्ते (रैशेज)
  • लाल आंखें
  • दस्त लगना
  • पेट में दर्द रहना

Related Articles

Back to top button