यहाँ और भी जानकारी है। 
Metro

कोविड और 2022 पर चिंतन, योगी सरकार अब कोरोना पीड़ितों के द्वार…कब कैबिनेट विस्तार?

लखनऊ
बीते कई दिनों से यूपी में कैबिनेट विस्तार और बीजेपी संगठन में बदलाव की सुगबुगाहट सुनाई दे रही है। 2017 में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद पहली बार प्रदेश में इस तरह की चर्चा हो रही है। इस बीच सोमवार को बीजेपी के राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) बीएल संतोष लखनऊ पहुंचे और मंत्रियों व पार्टी नेताओं के साथ एक-एक करके बैठक की। इसके बाद उन्होंने सीएम आवास में योगी आदित्यनाथ से भी मुलाकात की।

पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री बीएल संतोष ने सरकार के मंत्रियों, पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों से कोरोना काल में किए काम का फीडबैक लिया। कोरोना काल में कई सारी दिक्कतों से जनता में नाराजगी की जानकारी मिलने के बाद उन्होंने कहा कि मंत्री, विधायक और पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारी कोरोना पीड़ितों के घर जाएं, उनसे मिलें, विश्वास दिलाएं कि बीजेपी और सरकार उनके साथ खड़ी है, अगर उन्हें कोई दिक्कत है तो तत्काल उसका समाधान किया जाए।

पंचायत चुनाव में बीजेपी के खराब प्रदर्शन पर सवाल
बीएल संतोष का यह दो दिन का दौरा उस वक्त हो रहा है जब कोविड की दूसरी लहर से निपटने को लेकर संगठन में कयासबाजी तेज है। बीते दिनों बीजेपी के कई मंत्री और विधायकों ने सार्वजनिक रूप से नेतृत्व पर जनता के प्रति गैर जिम्मेदाराना होने पर सवाल उठाए। हाल ही में संपन्न हुए पंचायत चुनाव में भी बीजेपी के खराब प्रदर्शन को लेकर सवाल उठ रहे हैं। जबकि खुद पार्टी ने इसे अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव का सेमीफाइनल बताया था। ऐसे में अब यूपी में 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले ही बीजेपी चुनावी मोड में आ गई है।

पूछीं जनता को हुईं दिक्कतें
संतोष सोमवार सुबह बीजेपी मुख्यालय पहुंचे। उन्होंने पार्टी के यूपी प्रभारी राधा मोहन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, प्रदेश संगठन महामंत्री सुनील बंसल, क्षेत्रीय अध्यक्षों और पार्टी के महामंत्रियों के साथ बैठक की। इसके बाद उन्होंने स्वास्थ्य मं‌त्री जय प्रताप सिंह और चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना से भी कोरोना काल में सरकार के काम का फीडबैक लिया।

कई अन्य मंत्रियों और पार्टी पदाधिकारियों से पूछा कि पार्टी का जनता के बीच क्या माहौल है? अगर हम चुनाव में जाते हैं तो किन दिक्कतों से निपटना पड़ेगा? कुछ वरिष्ठ नेताओं ने बताया कि कोरोना से यूपी में कई परिवारों पर संकट आ गया है। कुछ परिवारों ने एक तो कुछ में दो से तीन लोगों ने जान गंवा दी है। अप्रैल में ऑक्सिजन और बेड के लिए जूझे और कालाबाजारी से भी परेशान रहे। हालांकि, सरकार ने तेजी से इन दिक्कतों को दूर किया।

गांव-गांव तक पहुंचेंगे कार्यकर्ता
बैठक में तय किया गया कि अब गांवों में ज्यादा संकट है और ग्रामीणों में वैक्सिनेशन को लेकर जागरूकता भी नहीं है, इसलिए हर गांव में एक युवा और महिला कार्यकर्ता को पहले से ट्रेनिंग देकर तैनात किया जाए ताकि वह गांव के लोगों की मदद कर सकें। तीसरी लहर से पहले हर तरह के इंतजाम करने के भी निर्देश बैठक में दिए गए।

ढीले अफसरों पर होगा ऐक्शन
संतोष ने सीएम योगी से उनके आवास पर मुलाकात की। सूत्रों का कहना है कि बैठक के बाद सरकार भी ढीले और लापरवाह अफसरों पर ऐक्शन के मूड में आ गई है। किसी भी जिले में गड़बड़ी करने वाले अफसरों को बक्शा नहीं जाएगा।

Related Articles

Back to top button