स्कूल बंद : इस राज्य में 30 नवंबर तक स्कूल बंद रखने का निर्देश…..कुछ राज्य में स्कूल खुले तो बच्चे नहीं पहुंचे…छत्तीसगढ़ सहित दूसरे राज्यों में स्कूलों को लेकर क्या हैं हालात… पढ़िये

स्कूल बंद : इस राज्य में 30 नवंबर तक स्कूल बंद रखने का निर्देश…..कुछ राज्य में स्कूल खुले तो बच्चे नहीं पहुंचे…छत्तीसगढ़ सहित दूसरे राज्यों में स्कूलों को लेकर क्या हैं हालात… पढ़िये


रायपुर 2 नवंबर 2020। कोरोना की रफ्तार अभी थमी नहीं है। दिल्ली में पिछले एक सप्ताह से जिस तरह से मरीज बढ़े हैं, उसने लोगों की चिंताएं और भी ज्यादा बढ़ा दी है। इन सबके बीच स्कूल खुलने को लेकर सवाल और शंकाएं जारी है। कई राज्यों ने आज से स्कूल तो खोले हैं, लेकिन स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति नहीं के बराबर हैं। वहीं कई राज्यों ने स्कूल खोलने को लेकर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया है। छत्तीसगढ़ सरकार ने भी स्कूल खोलने को लेकर अभी कोई फैसला नहीं लिया है। माना जा रहा है कि अगर स्थिति सामान्य बनी तो दिवाली के बाद सरकार इस पर कुछ निर्णय ले सकती है। आइये देखते हैं अन्य जिलों का हाल….

ओडिशा में कोरोना वायरस के चलते सरकार ने फिलहाल राज्य में स्कूलों को बंद ही रखने का फैसला लिया है। चर्चा थी कि राज्य में नवंबर से स्कूल खोले जा सकते हैं लेकिन इस पर अब सरकार ने ब्रेक लगा दिया है। नवीन पटनायक सरकार ने स्पष्ट कहा है कि राज्य में फिलहाल 30 नवंबर तक स्कूल नहीं खोले जाएंगे। 30 नवंबर के बाद सरकार कोरोना वायरस की समीक्षा करेगी और उसके बाद स्कूल खोले जाने को लेकर फैसला होगा। हालांकि 16 नवंबर से 9 से कक्षा 12 तक की कक्षाओं के छात्र स्कूल जा सकेंगे।

यूपी में 9 से 12 क्लासेस शुरू लेकिन 10 फीसदी उपस्थिति भी नहीं

उत्तर प्रदेश में 9 से 12 तक के स्कूल 7 महीनों के लंबे अंतराल के बाद 19 अक्टूबर से खुल गए। कोरोना महामारी के चलते लागू लॉकडाउन में सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया था। इस बीच ऑनलाइन क्लासेज के जरिए छात्रों की पढ़ाई जारी रही। राज्य सरकार के दिशानिर्देशों के तहत 7 महीने के बाद स्कूलों में छात्र वापस तो लौटे लेकिन वहां अब पहले वाली रौनक नहीं रही। ज्यादातर, सरकारी स्कूल ही खुले। तकरीबन सभी प्राइवेट स्कूल बंद ही हैं।यूपी में स्कूलों के खुलने के पहले दिन 9वीं से 12वीं तक की कक्षा में एनरॉल्ड 9 प्रतिशत से भी कम बच्चे स्कूल पहुंच रहे हैं। प्रदेश में 9वीं-12वीं में तकरीबन 1 करोड़ छात्र दर्ज हैं लेकिन उनमें से सिर्फ 8.5 लाख के आस-पास ही छात्र स्कूलों में उपस्थित हो रहे हैं।

असम में 2 नवंबर से इस तरह होंगी कक्षाएं

असम सरकार ने 2 नवंबर से स्कूलों को फिर से खोलने के लिए तैयारी कर ली है। हालांकि, केवल छठवीं से बारहवीं कक्षा तक के छात्रों के लिए ही स्कूल खोले जा रहे हैं। सरकार ने मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी की। इसमें कहा गया है कि 5,8,10 और 12वीं के छात्रों के लिए कक्षाएं सोमवार, बुधवार और शुक्रवार चलेगीं। वहीं कक्षा 7, 9 और 11 के बच्चों को मंगलवार, गुरुवार और शनिवार बुलाया जाएगा। एसओपी में कॉलेजों, इंजिनियरिंग कॉलेजों, पॉलिटेक्निक संस्थानों और आईटीआई के लिए समय सारिणी भी शामिल है।

​महाराष्ट्र में दिवाली के बाद चरणबद्ध तरीके से खुलेंगे स्कूल

महाराष्ट्र की शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड ने घोषणा की है कि दिवाली के बाद सरकार चरणबद्ध तरीके से स्कूल-कॉलेज खोलने के बाबत विचार कर रही है। कोरोना महामारी के प्रकोप को देखते हुए चरणबद्ध तरीके से स्कूल शुरू करने की योजना बना रही है। 9वीं से 12वीं तक के छात्र प्राथमिक स्कूल के छात्रों की तुलना में अधिक जागरूक हैं और उनका शैक्षणिक वर्ष महत्वपूर्ण है, इसलिए उनके पहले स्कूल शुरू करने के बारे में सरकार सोच रही है। शिक्षा मंत्री गायकवाड ने कहा कि मार्च में लॉकडाउन शुरू होने के बाद से ही स्कूल-कॉलेज बंद ही हैं, जिसे देखते हुए सरकार ने 15 जून से ऑनलाइन पढ़ाई शुरू कराई है। राज्य सरकार ने शिक्षकों और गैर-शिक्षण कर्मचारियों की उपस्थिति को 50 प्रतिशत तक बढ़ाने का फैसला किया।

​हरियाणा सरकार ने की 2 नवंबर से स्कूल खोलने की घोषणा

कोरोना संक्रमण के चलते 7 महीने से स्कूल बंद हैं। केंद्र सरकार की अनलॉक 5 की गाइडलाइंस आने के बाद धीरे-धीरे स्कूल खुलने लगने हैं। हरियाणा सरकार ने 2 नवंबर से राज्य के स्कूल खोलने का फैसला लिया है। फिलहाल सरकार ने अभी स्कूलों में केवल तीन घंटे ही कक्षाएं चलाने के आदेश दिए हैं। कोरोना वायरस गाइडलाइंस का पालन करना जरूरी होगा। बच्चों को बुलाने के लिए सभी छात्रों के अभिभावकों की लिखित सहमति आवश्यक होगी। अगर पैरंट्स बच्चों को स्कूल नहीं भेजना चाहते तो स्कूलवाले उनके ऊपर दबाव नहीं बनाएंगे।

​दिल्ली में फिलहाल स्कूल रहेंगे बंद

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राष्ट्रीय राजधानी में स्कूलों को फिलहाल खोले जाने की संभावना से इनकार किया है। सरकार ने पहले घोषणा की थी कि स्कूल कोविड-19 महामारी के मद्देनजर 31 अक्टूबर तक बंद रहेंगे। पहले स्कूलों को 21 सितंबर से स्वैच्छिक आधार पर नौवीं से बारहवीं कक्षाओं के विद्यार्थियों को बुलाने की अनुमति दी गई थी, लेकिन दिल्ली सरकार ने उसके विरूद्ध निर्णय लिया। इस साल सीबीएसई परीक्षा के शुल्क का भुगतान नहीं करने के आप सरकार के निर्णय की चर्चा करते हुए केजरीवाल ने इसके लिए महामारी के चलते कोषाभाव का हवाला दिया। दिल्ली सरकार ने कहा है कि फिलहाल स्कूल नहीं खोले जाएंगे।

कर्नाटक में भी स्कूल बंद

कनार्टक में कोरोना के डर से पैरंट्स स्कूल खोलने का विरोध कर रहे हैं। पैरंट्स का कहना है कि जब तक कोरोना का संकट पूरी तरह से नहीं हट जाता, वे अपने बच्चों को किसी भी हाल में स्कूल नहीं भेजेंगे। दरअसल कर्नाटक सरकार ने पैरंट्स से ही स्कूल खोलने या न खोलने पर राय मांगी थी। पैरंट्स ने कहा कि वे अपने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए तैयार नहीं हैं जिसके बाद कर्नाटक सरकार ने फिलहाल यहां स्कूल बंद रखने का ही फैसला लिया है।कनार्टक में कोरोना के डर से पैरंट्स स्कूल खोलने का विरोध कर रहे हैं। पैरंट्स का कहना है कि जब तक कोरोना का संकट पूरी तरह से नहीं हट जाता, वे अपने बच्चों को किसी भी हाल में स्कूल नहीं भेजेंगे। दरअसल कर्नाटक सरकार ने पैरंट्स से ही स्कूल खोलने या न खोलने पर राय मांगी थी। पैरंट्स ने कहा कि वे अपने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए तैयार नहीं हैं जिसके बाद कर्नाटक सरकार ने फिलहाल यहां स्कूल बंद रखने का ही फैसला लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES