Hamar Chhattisgarh

रेलवे को मिले बजट में से 3650 करोड़ छत्तीसगढ़ में होंगे खर्च

बिलासपुर : वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को 5050 करोड़ रुपये मिले हैं। इसमें से 3650 करोड़ छत्तीसगढ़ में खर्च होंगे। इससे राज्य के अंतर्गत हो रहे अधोसंरचना के कार्यों को गति मिलेगी।

महाप्रबंधक ने कहा कि इस क्षेत्र के आर्थिक विकास के लिए ईस्ट वेस्ट डेडीकेटेड फ्रेट कारिडोर का निर्माण होना है। यह भुसावल-नागपुर-दानकुनी दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे से होकर गुजरेगी। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में इसका सर्वाधिक भाग छत्तीसगढ़ से होकर गुजरेगा। निश्चित तौर पर छत्तीसगढ़ के आर्थिक विकास के लिए यह कारिडोर योजना मील का पत्थर साबित होगा।

आधारभूत संरचना के विकास को फोकस करते हुए नई लाइन, डबलिंग, गेज कन्वर्जन व रेल विद्युतीकरण योजना पर व्यापक कार्य प्रगति पर है। 2021-22 के बजट में यात्री सुविधाओं के मद में 404 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। इस वित्तीय वर्ष में आधारभूत संरचना व यात्री सुविधाओं पर विशेष ध्यान दिया गया है।

छत्तीसगढ़ के लिए आवंटित 3650 करोड़ रुपए का आकलन किया जाए तो वित्तीय वर्ष 2009-2014 के औसत बजट आवंटन से 1074 प्रतिशत व 2014-2019 के औसत बजट आवंटन से 38 प्रतिशत अधिक है।

एक नजर में छत्तीसगढ़ में चल रहे रेलवे के कार्य

छत्तीसगढ़ में पूर्णता या अंशत: 2900 किमी की 42083 करोड़ लागत की परियोजनाएं प्रगति पर हैं। इसमें आठ नई लाइन परियोजना, 10 दोहरीकरण, तिहरी चौथी लाइन परियोजना व एक रेल विद्युतिकरण परियोजना शामिल है।

नई लाइन परियोजनाओं में दल्ली राजहरा जगदलपुर लाइन, खरसिया धरमजयगढ़ लाइन, पेंड्रारोड-गेवरारोड लाइन व डबलिंग ट्रिपलिंग और चौथी लाइन परियोजनाओं में बिलासपुर-उसलापुर फ्लाईओवर, मंदिर हसौद न्यू रायपुर केंद्री लाइन, चांपा झारसुगुड़ा थर्ड लाइन, राजनांदगांव नागपुर थर्ड लाइन, झारसुगुड़ा बिलासपुर चौथी लाइन, गेवरारोड-पेंड्रारोड डबलिंग आदि परियोजनाएं प्रगति पर हैं।

Live Share Market

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES