देश दुनिया

मसालों में मिलावट, जीवन से खिलवाड़, शुद्धता है आपका अधिकार जानिये शुद्धता की पहचान कैसे करें

मसाले में मिलावट करने वाले समाज, देश और मानवता के दुश्मन है और इसे क्षत्रुओ को निश्चित ही दंड मिलना चाहिए। खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए हर घर की रसोई में मसालों (spices) का इस्तेमाल होता है। पहले के समय में महिलाएं सभी मसाले खुद घर में पीस कर तैयार किया करती थी। लेकिन आज के व्यस्त जीवन में बहुत कम लोग घर में मसाले बना पाते हैं।

आजकल को बहुत आसानी से सभी मसाले बाजार में उपलब्ध हैं। बाजार में बिकने वाले ये मसाले कितने शुद्ध हैं और कितने मिलावटी (Food Adulteration) इसका तो अंदाजा भी आप नहीं लगा सकते।

सूत्रों के अनुसार यूपी के हाथरस में पुलिस ने गधे की लीद से मसाले बनाने वाली फैक्ट्री का भांडा फोड़ा था। हाथरस में स्थानीय ब्रांड के मसाले बनाने वाली एक फैक्ट्री में गधे की लीद, भूसा और एसिड का इस्तेमाल कर मसाले तैयार किए जाते थे। इस फैक्ट्री में गधे की लीद और एसिड से धनिया पाउडर (Coriander Powder), लाल मिर्च पाउडर (Red Chilly Powder), गरम मसाला (Garam Masala) आदि मसाले बनते थे।

जानिए आप कैसे इन मसालों की शुद्धता की जांच आसानी से कर सकते है

केसर
केसर काफी महंगी आती है और इसमें मिलावट भी बहुत ज्यादा होती है। इसे पहचानने के लिए केसर के एक बाल को हाथ में ले और तोड़ने की कोशिश करें। अगर यह असली होगा, तो आसानी से नहीं टूटेगा। इसमें मिलावट के लिए भुट्टे के बाल रंग करके मिलाए जाते है, नकली बाल जल्दी टूट जाता है।

धनिया
धनिया में मिलावट करने के लिए सबसे ज्यादा जंगली घास पीस कर मिलाई जाती है। सूखने के बाद इस घास का रंग भी धानिए जैसा हो जाता है। असली धनिए की खुशबू बहुत तेज होती है। अगर पिसे हुए धनिए से खुशबू कम या न के बराबर का रही है तो समझ जाए कि वह नकली है।

हल्दी पाउडर
हल्दी की पहचान करने के लिए इसे पानी में डालिए। अगर पानी में डालते ही हल्दी का रंग जल्दी गायब हो जाए तो वो नकली है। वहीं असली हल्दी हल्के पीले रंग की होती है। बाजारो में खउली हल्दी गहरे पीले रंग की मिलती है। यही असली हल्दी की पहचान है।

नमक
नमक मेंभी बहुत मिलावट की जाती है। खाना कैसा भी हो शाकाहारी या मांसाहारी सभी में नमक इस्तेमाल होता है। इसे चेक करने का तरीका यह है कि एक आलू को दो हिस्सों में काटकर उस पर नमक लगा दें। उस पर नींबू के रस की कुछ बूंदें डाल दें। 10 मिनट बाद चेक क रें कि अगर उसका रंग नीला हो जाए तो वो आयोडाइज है, अगर नहीं होता है तो वो नकली नमक है।

लाल मिर्च पावडर
ज्यादातर लाल मिर्च पाउडर में मिलावट के लिए ईंट पाउडर, नमक पाउडर या तालक पाउडर का यूज किया जाता है। इस तरह की मिलावट का पता लगाने के लिए आप एक कांच के गिलास में सादा पानी लें। अब इसमें एक चम्मच मिर्च पाउडर मिलाएं और 5 मिनट के लिए छोड़ दें। अगर मिर्च पाउडर में मिलावट है तो यह अपना रंग बदल देगा।

काली मिर्च
काली मिर्च में मिलावट जांचने के लिए पांच ग्राम काली मिर्च एक ग्लास अल्कोहल में डालें। यदि पांच मिनट बाद भी कुछ बीज तैरते रहे तो उसमें पपीते के बीज या काली मिर्च के खोखले मिर्च की मिलावट की गई है।



Post Views:
1

Related Articles

Back to top button