Hamar Chhattisgarh

मनरेगा योजना के तहत एक मजदूर के रूप में काम कर भरी कॉलेज की फीस

ओडिशा:ओडिशा की एक इंजीनियरिंग डिप्लोमा धारक 22 वर्षीय छात्रा लोजी बेहेरा ने कॉलेज की फीस भरने के लिए पैसा कमाने के लिए मनरेगा योजना के तहत एक मजदूर के रूप में काम किया।

बेहेरा ने पुरी के देलांग प्रखंड में निर्माण स्थल पर 20 दिनों तक 207 रुपये की दिहाड़ी मजदूरी पर काम किया, क्योंकि वह कॉलेज की फीस भरने और अपना डिप्लोमा प्रमाणपत्र हासिल करने के लिए पैसा इकट्ठा करना चाहती थी। कॉलेज ने उसे शुल्क का बकाया राशि चुकाने के लिए कहा था।

भुवनेश्वर स्थित एक निजी कॉलेज की छात्रा की दुखद स्थिति को पहली बार एक स्थानीय टीवी चैनल ने रिपोर्ट किया जब वह सड़क निर्माण स्थल पर मिट्टी ढो रही थी।207 रुपये प्रति दिन कमाएउसकी कहानी जल्द ही सुर्खियों में आ गई, जिसके बाद जिले के अधिकारी मदद के लिए उसके पास पहुंचे।

कुछ ही समय बाद कॉलेज प्रशासन प्रमाण पत्र के साथ उसके घर पर पहुंचा। एक राजमिस्त्री की बेटी बेहेरा ने कहा कि जो काम मैं कर रही थी, उसके लिए मुझे कभी भी शर्मिंदगी महसूस नहीं हुई। कुछ लोगों को यह अच्छा नहीं लगा होगा, लेकिन मुझे कोई कारण नहीं दिखता कि मुझे शर्म क्यों आनी चाहिए। मैंने सामुदायिक सड़क विकास परियोजना के लिए काम किया और 207 रुपये प्रति दिन कमाए।

सिर्फ 20,000 रुपये जमा कर सकी थीलोजी बेहेरा के साथ उसकी दो बहनें भी निर्माण स्थल पर काम कर रही थी, जिनमें से एक बीटेक की पढ़ाई कर रही है। ये पांच बहनें हैं। छात्रा ने कहा कि मेरे कॉलेज के अधिकारियों ने मुझे 44,500 रुपये के छात्रावास शुल्क का भुगतान नहीं करने पर मेरा प्रमाण पत्र देने से इनकार कर दिया था।

मेरे पिता राजमिस्त्री का काम करते हैं। मैं केवल 20,000 रुपये जमा कर सकी थी। सत्तारूढ़ बीजद की सामाजिक सेवा शाखा ओडिशा मो परिवार के सदस्यों ने हाल ही में लड़की को उसकी शिक्षा के लिए 30,000 रुपये का चेक सौंपा है। बेहेरा की मेहनत और लगन के लिए उसकी प्रशंसा करते हुए, पुरी के जिलाधिकारी समर्थ वर्मा ने कहा कि वह उसे जिले में नौकरी दिलाने की कोशिश करेंगे।

Live Share Market

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES