बेटी ने प्रेमी के साथ मिलकार मां को उतारा मौत के घाट..मौसेरी बहन ने दिया साथ..शादी में मृतका थी सबसे बड़ी बाधा

बेटी ने प्रेमी के साथ मिलकार मां को उतारा मौत के घाट..मौसेरी बहन ने दिया साथ..शादी में मृतका थी सबसे बड़ी बाधा

[ad_1]

बिलासपुर— जिला पुलिस ने चार दिन पहले उस्लापुर में महिला पंचायत सचिव की अंधे कत्ल की गुत्थी सो सुलझा लिया है। पुलिस कप्तान प्रशांत अग्रवाल ने खुलासा किया कि चंदना डडसेना की हत्या को उसकी बेटी तनु डडेसना, प्रेमी देवदीप गुप्ता और तनु की मौसेरी बहन ने मिलकर अंजाम दिया है। तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

                  पुलिस कप्तान ने खुलासा किया कि चार दिन पहले उस्लापुर स्थित गुप्ता मोहल्ला में महिला पंचायत सचिव की हत्या की गुत्थी को सुलझा लिया गया है। पुलिस कप्तान ने बताया कि 25 अगस्त की दोपहर प्रार्थी रामेश्वर सूर्यवंशी ने सकरी थाना पहुंचकर बताया कि किसी ने  पंचायत सचिव चंदना डडसेना की हत्या कर दिया है। जानकारी के बाद पुलिस मौके पर पहुंची। मामले में प्रारंभिक पूछताछ के बाद अपराध को दर्ज किया गया।

                     पुलिस कप्तान ने बताया कि मामले की तह तक जाने की जिम्मेदारी एडिश्नल एसपी ओपी शर्मा और नगर पुलिस अधीक्षक आरएन यादव को दी गयी। प्रारंभिक पूछताछ में प्रार्थी रामेश्वर सूर्यवंशी ने पुलिस को बताया कि मृतिका चंदना डडसेना से उसकी अंतिम बातचीत मोबाइल पर घटना के एक दिन पहले 24 अगस्त को शाम साढ़े 6 बजे के आसपास हुई। उसने बताया कि सभी बच्चे बाहर घूमने गए हैं। 

                  25 अगस्त को सुबह 11 बजकर 55 मिनट पर तनु डडसेना ने फोन कर बताया कि मां फोन नहीं उठा रही है। इसलिए घर जाकर देखें की क्या वजह है। इसके बाद वह तत्काल गुप्ता मोहल्ला स्थित तनु के घर गया। गेट खोलकर अन्दर पहुंचा। मौके पर पाया कि घर के अन्दर लाइट जल रही है। बेडरूम का दरवाजा बाहर से बन्द है। कुण्डी खोलकर अन्दर गया तो चंदना डडसेना मृत अवस्था में अपने बेड़ पर लेटी थी। मामले की जानकारी सकरी थाना को दिया। 

                 पुलिस कप्तान ने जानकारी दी कि जांच पड़ताल के दौरान तकनीकी जानकारी के आधार पर महाशक्ति चौक निवासी देवदीप गुप्ता को हिरासत में लेकर पूछतााछ की गयी। कड़ाई से पूछताछ करने पर देवदीप गुप्ता ने हत्या का जुर्म स्वीकार कर लिया। देवदीप गुप्ता पिता दिनेश गुप्ता ने बताया कि वह तनु से प्यार करता है। दोनों शादी करना चाहते थे। लेकिन चंदना डडसेना को पसंद नहीं था। इतना ही नहीं वह हम लोगों का मिलना भी पसंद नहीं करती थी।

                इसके बाद तनु और उसकी मौसेरी बहन के साथ चंदना को मौत के घाट उतारने का प्लान बनाया। 24 अगस्त की शाम चंदना को नींद की 9 गोली चाय में मिलाकर पिलाया गया। मरने के बाद जांच पड़ताल के लिए तार से करंट भी लगाया। तकिया से मुंह भी दबाया। इसके बाद हम लोग घर से बाहर चले गएष।

               पुलिस कप्तान ने बताया कि जुर्म कबूल करने के बाद तीनों आरोपियो को गिरफ्तार किया गया। इसके अलावा तीनों के पास से चोरी सोने चांदी के जेवर समेत चंदना डडसेना का एटीएम और फिक्स डिपाजिट को बरामद किया गया है। साथ ही हल्ता की घटना में उपयोग किए गए तकिया, कप और बिजली की तार को जब्त किया गया है।

loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES