देश दुनिया

प्राणायाम: जानिए कपालभाती’ प्राणायाम के प्रकार सही तरीका, रखी जाने वाली सावधानियां और इसके फायदे

हम सभी चिरंजीवी नही हो सकते साथ ही हमारा जीवन 100 साल के लिए कोई चमत्कारी कैप्सूल लेने या विभिन्न उपचारों से पूर्ण नही हो सकता।हम को हमेशा युवा रहने और स्वस्थ जीने के लिए अच्छी तरह से सांस लेने की ही जरूरत है। यदि आप भी ऐसा कर सकते हैं, तो आप किसी भी बीमारी से प्रभावित नहीं होंगे और आप बुढ़ापे में भी जवान रहेंगे।

लेकिन हमारे व्यस्त जीवन के कारण, हम सब कुछ गलत कर रहे हैं। हम अच्छी तरह से नहीं खाते हैं, अच्छी तरह से नहीं सोते हैं, अच्छी तरह से नहीं पीते हैं और यहां तक कि हम अच्छी तरह से सांस भी नहीं लेते हैं । प्राणायाम केवल श्वास के बारे में है । प्राणायाम में कई प्रकार के श्वास व्यायाम शामिल हैं।

कपालभाति प्राणायाम क्या है–
कपालभाति को प्राणायाम का एक हिस्सा माना गया है। इसमें तेजी से सांस छोड़ने की प्रक्रिया की जाती है, कपालभाती दो शब्दों से मिलकर बना है ‘कपाल’ यानी ‘माथा/ललाट’ और ‘भाति’ जिसका अर्थ है ‘तेज’

कपालभाती’ प्राणायाम के फायदे
हालांकि प्राणायाम के कई स्वास्थ्य और सौंदर्य लाभ हैं, लेकिन योगियों का प्राणायाम करने का प्राथमिक कारण कुंडलिनी जागरण करना है। और कपालभाति से आप मूलाधार चक्र से सहस्रार चक्र तक कुंडलिनी ऊर्जा को जागृत कर सकते हैं । और इससे आप भारी शक्तियाँ प्राप्त कर सकते हैं और समाधि तक पहुँच सकते हैं। यह कपालभाति के लाभों में शीर्ष पर है। जानिए ‘कपालभाती’ प्राणायाम के वैज्ञानिक कारण और फायदे

  • 1 वजन घटाने के लिए कपालभाती प्रभावी है
  • 2 कपालभाती कब्ज को ठीक करता है
  • 3 कपालभाती कैंसर के इलाज और रोकथाम में प्रभावी
  • 4 कपालभाती बालों के झड़ने को रोकता है
  • 5 कपालभाती रक्त परिसंचरण में सुधार करता है
  • 6 कपालभाती पेट की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है
  • 7 नसों की कमजोरी के लिए प्राकृतिक उपचार
  • 8 कपालभाती फेफड़ों की समस्याओं को ठीक करता है
  • 9 कपालभाती पीरियड्स (मासिक धर्म) की समस्याओं का इलाज करता है
  • 10 कपालभाती गुर्दे की पथरी की समस्या को ठीक करता है
  • 11 कपालभाती शरीर की प्रतिरक्षा शक्ति (इम्युनिटी) बढ़ाता है
  • 12 कपालभाती सेक्स स्टैमिना और शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाता है
  • 13 हड्डियों की मजबूती के लिए कपालभाती फायदेमंद
  • 14 महिलाओं में गर्भाशय की गांठों (फाइब्रॉएड) में असरदार
  • 15 मुहाँसों को ठीक करने में कपालभाती फायदेमंद
  • 16 कपालभाती उम्र के बढ़ने की गति को धीमा करता है
  • 17 कपालभाती एसिडिटी की समस्या को ठीक करता है
  • 18 कपालभाती शरीर में ऊर्जा स्तर बढ़ाता है
  • 19 त्वचा की प्राकृतिक चमक के लिए कपालभाती असरदार
  • 20 समय से पहले बाल सफ़ेद होना रोकता है
  • 21 कपालभाती मन को शांत करता है
  • 22 तनाव और चिंता का इलाज करने के लिए कपालभाती फायदेमंद
  • 23 कपालभाती का प्रयोग अनिद्रा को ठीक करता है
  • 24 कुंडलिनी जागरण में कपालभाती का योगदान

इन लाभों का अनुभव करने में देर न करें। आज से ही कोशिश करना शुरू कर दें और खुद को स्वस्थ और सुंदर बनाएं।

कपालभाति के प्रकार
कपालभाति प्राणायाम तीन प्रकार के होते हैं।

1 वातक्रम कपालभाति – इसमें व्यक्ति सीधे ध्यान की मुद्रा में बैठकर अपनी एक उंगली से एक नासिका छिद्र को बंद करके दूसरी नासिका छिद्र से सांस खींचता है और तुरंत ही दूसरी तरफ की नासिका छिद्र को बंद करके सांस छोड़ता है।

2 व्युत्क्रम कपालभाति – इस योग में व्यक्ति नाक से गुनगुना पानी खींचता है और मुंह से निकालता है।

3 शीतकर्म कपालभाति – यह व्युत्क्रम कपालभाती का उल्टा है। इसमें पानी को मुंह में लेकर नाक से बाहर निकाला जाता है।

अब जानते है प्राणायाम के तौर तरीके
आसनों के बाद हर व्यक्ति को प्राणायाम का अभ्यास करना चाहिए। यहां ऐसे 5 प्राणायाम दिए जा रहे हैं, जिनका रोजाना अभ्यास करना चाहिए। यहां जिस क्रम में प्राणायाम दिए गए हैं, उसी क्रम में करने चाहिए। प्राणायाम के बाद सीधे ध्यान में उतरा जा सकता है।

कपालभाति
सुखासन में बैठ जाएं और आंखें बंद कर लें।
दोनों नॉस्ट्रिल से गहरी सांस भीतर लें। सीना फूलेगा।
अब सांस को बलपूर्वक पूरी तरह से बाहर निकाल दें।
सांस को बलपूर्वक बाहर निकालना है और पूरे आराम के साथ भीतर लेना है।
इस तरह से 20 सांसें बिना रुके लेनी और निकालनी है। यह कपालभाति का एक राउंड हुआ। हर राउंड के बाद कुछ लंबे गहरे सांस लें और छोड़ें और उसके बाद दूसरे राउंड पर जाएं। ऐसे तीन राउंड कर सकते हैं।

फायदे

  1. कफ संबंधी विकारों को दूर करने में बहुत सहायक है। 2.सर्दी, जुकाम, अस्थमा, ब्रोंकाइटिस को ठीक करता है।

कौन न करें -जिन लोगों को ह्रदय रोग हैं, चक्कर आते हैं, वर्टिगो है, हाई बीपी रहता है, मिर्गी, माइग्रेन, हर्निया और गैस्ट्रिक अल्सर है, वे इसे न करें।

1 अनुलोम विलोम (नाड़ी शोधन प्राणायाम)
सबसे पहले सुखासन में बैठ जाएं। आंखें बंद कर लें और सिर व रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें।
बाएं हाथ की हथेली को ज्ञान मुद्रा में बाएं घुटने पर रख लें।
दाएं हाथ की अनामिका और सबसे छोटी उंगली को मिलाकर बाएं नॉस्ट्रिल पर रखें और अंगूठे को दाएं वाले नॉस्ट्रिल पर लगा लें। तर्जनी और मध्यमा को मिलाकर मोड़ लें।
अब बाएं नॉस्ट्रिल से सांस भरें और उसे अनामिका और सबसे छोटी उंगली को मिलाकर बंद कर लें। फौरन ही दाएं नॉस्ट्रिल से अंगूठे को हटाकर सांस बाहर निकाल दें। अब दाएं नॉस्ट्रिल से सांस भरें और अंगूठे से उसे बंद कर दें। इस सांस को बाएं नॉस्ट्रिल से बाहर निकाल दें। यह एक राउंड हुआ। ऐसे 5 राउंड करें।

फायदे

  1. तनाव और एंजायटी को कम करता है और प्राण शक्ति को बढ़ाता है।
  2. कफ से संबंधित गड़बड़ियों को दूर करता है।
  3. चित्त को शांत करता है और एकाग्रता को बढ़ाता है।
    4 दिल को स्वस्थ रखता है, ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर करता है, फेफड़ों को ठीक रखता है और पाचन क्रिया को दुरुस्त करता है।

कौन न करें

  • इसे सभी लोग कर सकते हैं।
  1. उज्जयी प्राणायाम
    किसी भी आरामदायक आसान में बैठ जाएं। सुखासन में बैठना ठीक है।
    आंखें बंद कर लें और दोनों नॉस्ट्रिल्स से हल्के हल्के लंबी सांस भरें और निकालें। ध्यान यह रखना है कि सांस को भरते और निकालते वक्त गले की मांसपेशियां सिकुड़ी हुई अवस्था में हों, जिससे एयर पैसेज छोटा हो जाए। ऐसी स्थिति में सांस लंबी और गहरी होगी। गले द्वारा पैदा किए जा रहे अवरोध की वजह से सांस लेने और बाहर निकलने की आवाज होगी।

फायदे
1 इस प्रक्रिया में पैदा होने वाली ध्वनि मन को शांत करती है। ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में मदद मिलती है और हार्ट रेट कम होता है। नींद न आने और माइग्रेन में भी यह फायदेमंद है।
2 अस्थमा और टीबी को ठीक करने में मददगार है।

कौन न करें

  1. जिन लोगों को दिल की बीमारी हैं।
  2. भ्रामरी प्राणायाम
    सुखासन में बैठ जाएं और आंखें बंद कर लें।
    दोनों हाथों को चेहरे पर लाएं। दोनों अंगूठे दोनों कानों में जाएंगे, तर्जनी उंगली आंखों के ऊपर रखें, मध्यमा उंगली नाक के पास, अनामिका होंठ के ऊपर और सबसे छोटी उंगली होंठ के नीचे रहेगी। इसे शनमुखी मुद्रा कहते हैं।
    नाक से गहरा और लंबा सांस लें।
    अब भरे गए सांस को भंवरे के गूंजने की आवाज करते हुए बाहर निकालें। यह 1 राउंड हुआ। इस तरीके से 5 राउंड कर लें। बाद में बढ़ा भी सकते हैं।

फायदे
गुस्सा और बेचैनी को कम करता है और तनाव से छुटकारा दिलाता है। मन शांत हो जाता है।

कौन न करें
जिन लोगों को नाक या कान का इंफेक्शन है।

  1. भस्त्रिका प्राणायाम
    किसी भी आरामदायक आसन में बैठ जाएं।
    दोनों नॉस्ट्रिल्स से पूरी तेजी के साथ सांस अंदर लें। ऐसा महसूस हो जैसे फेफड़ों में सांस पूरा भर गया है। इसके फौरन बाद पूरी ताकत के साथ सांस को बाहर निकाल दें। भस्त्रिका प्राणायाम में सांस लेते हुए और निकालते हुए पूरी ताकत लगाना जरूरी है। बलपूर्वक सांस होना चाहिए।
    एक बार सांस भरना और निकालना, इस तरह के 20 राउंड लगातार लगाएं और उसके बाद कुछ देर आराम करें और फिर 20 राउंड का ही दूसरा सेट लगाएं। ऐसे तीन सेट लगा सकते हैं।

फायदे

  1. शरीर के टॉक्सिंस को बाहर निकालने में मददगार है और सांस संबंधी बीमारियों को ठीक करता है।
  2. शरीर में ऑक्सिजन की सप्लाई को बेहतर बनाता है और रक्त को शुद्ध करता है।

कौन न करें
जिन लोगों को ह्रदय रोग हैं, हर्निया है और हाईबीपी है। गर्मियों में इसे न करें।

  1. शीतली प्राणायाम
    किसी भी आरामदायक आसन में बैठ जाएं। जीभ के टिप को नीचे वाले होंठ पर रख लें और उसे रोल करें।
    मुंह से सांस लें और सांस को रोककर रखें।
    अब मुंह को बंद कर लें और नाक से सांस बाहर निकाल दें।
    यह एक राउंड हुआ। शुरुआत में दो से तीन राउंड कर सकते हैं। बाद में इसे 15 तक बढ़ाया जा सकता है।

फायदे

  1. शरीर को ठंडा रखने में मददगार है।
  2. एसिडिटी और हाइपरटेंशन को ठीक करता है।

कौन न करें(
सर्दी से पीड़ित लोगों को नहीं करना चाहिए। इस प्राणायाम को सर्दियों के मौसम में नहीं करना चाहिए।

ये सारे प्राणायाम आप 10 मिनट में भी कर सकतें हैं। यहां आप 1 मिनट डीप ब्रीदिंग (भस्त्रिका), 3 मिनट कपालभाति, 3 मिनट अनुलोम-विलोम-3 बार भ्रामरी और 3 बार उदगित (ओम उच्चारण) कर लें।

कपालभाति के लिए सावधानियां
कपालभाति प्राणायाम योग में उल्लिखित सबसे अच्छे श्वास अभ्यासों में से एक है। कपालभाती प्राणायाम में आप नाक से जोर से हवा छोड़ते हैं। सांस छोड़ते हुए आप पेट अंदर की ओर खींचते हैं। विशेषज्ञ योगी एक मिनट में 90 से 120 बार सांस छोड़ते हैं। यदि आप शुरुआती हैं, तो आप यह गिनती कम कर सकते हैं। लेकिन याद रखें कि यह हर किसी के लिए नहीं है। गर्भवती महिलाओं, रक्तचाप के रोगियों, हृदय रोगियों, अस्थमा के रोगियों और कुछ अन्य गंभीर बीमारियों से पीड़ित लोगों को ऐसा नहीं करना चाहिए। इससे पहले कि आप इसका अभ्यास शुरू करें, कृपया उपरोक्त बात को याद रखें।



Post Views:
1

Related Articles

Back to top button