पौने 3 करोड़ खर्च कर दिए सौदर्यीकरण और गहरीकरण में, फिर भी पानी की एक बूंद भी नहीं, अब करोड़ों खर्च करने की तैयारी

पौने 3 करोड़ खर्च कर दिए सौदर्यीकरण और गहरीकरण में, फिर भी पानी की एक बूंद भी नहीं, अब करोड़ों खर्च करने की तैयारी



बिलासपुर. शहर के तालाबों के सौदर्यीकरण में नगर निगम अधिकारियों ने अलग-अलग योजनाओं के तहत पौने 3 करोड़ रुपए खर्च कर चुके हैं। गहरीकरण और सौदर्यीकरण के नाम पर रकम खर्च किए जाने के बाद भी तालाब में बारिश खत्म होने के बाद 1 बूंद पानी तक नहीं है। वहीं अब इस तालाब को स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत सौंदर्यीकरण और गहरीकरण करने लाखों खर्च करने की तैयारी की जा रही है।

शहर के पुराने तालाबों को सुरक्षित रखने और 12 महीनों तक पानी उपलब्ध कराने शासन ने सरोवर धरोहर योजना शुरू की थी। योजना के तहत तालाबों का गहरीकरण और सौंदर्यीकरण किया जाना था। शहर के जतिया तालाब में दो वर्ष पूर्व योजना के तहत 2 करोड़ 80 लाख रुपए सौदर्यीकरण के लिए स्वीकृत किए गए थे। निगम अधिकारिर्यं ने तालाब के चारों ओर पचरी निर्माण, तालाब के बाजू में पैठू को जोडऩे के लिए बीच में पुल का निर्माण करने और गहरीकरण में राशि का उपयोग किया। रकम रहते 6 महीने तक काम किया गया और पुल को अधूरा छोड़ दिया गया। पचरी निर्माण करने और चारों ओर तालाब में पिचिंग वर्क किया गया। करोड़ों खर्च करने के बाद भी तालाब में इतनी बारिश होने के बाद भी एक बूंद पानी नहीं है।

राशि थी पर्याप्त, फिर भी नहीं हुआ निर्माण
तालाब में सौंदर्यीकरण के लिए मिली 2 करोड़ 80 लाख रुपए से सारे निर्माण कार्य हो जाने थे। अधिकारियों ने सौंदर्यीकरण को ठेके पर दे दिया था। ठेकेदार ने यहां गहरीकरण, चारों ओर पचरी और पुल का निर्माण कार्य शुरू किया था, लेकिन राशि खत्म होने का हवाला देकर काम बंद कर दिया। पिछले 2 साल से तालाब की हालत जस की तस है।

अब स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत होंगे करोड़ों खर्च
स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में शहर के जतिया तालाब को शामिल किया गया है। यहां पहले ही पौने 3 करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं। अब अधिकारियों ने यहां इलेक्ट्रिफिकेशन, गहरीकरण, सौंदर्यीकरण, पाथवे समेत कई निर्माण कार्य करने खाका तैयार किया है। निर्माण कार्य में करोड़ों रुपए खर्च होंगे।

जतिया जालाब में सरोवर धरोहर योजना के तहत स्वीकृत राशि से काम हुआ है। राशि नहीं होने के कारण निर्माण बंद हैं। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में शामिल होने के बाद तालाब का जीर्णाेद्धार होगा।
प्रवीण शुक्ला, जोन कमिश्नर

जतिया तालाब को स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत संवारा जाएगा। निर्माण कार्य होंगे, लेकिन लागत का निर्धारण अब तक नहीं किया गया है।
पीके पंचायती, प्रभारी, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES