निकिता हत्याकांड: धर्म बदलवाकर शादी करना चाहता था तौसीफ, आरोपी है कांग्रेस विधायक का भाई… दादा रहे हैं मंत्री

निकिता हत्याकांड: धर्म बदलवाकर शादी करना चाहता था तौसीफ, आरोपी है कांग्रेस विधायक का भाई… दादा रहे हैं मंत्री


नईदिल्ली 28 अक्टूबर 2020. हरियाणा के बल्लभगढ़ में सरेआम छात्रा की हत्या के बाद पीड़ित परिवार सड़क पर बैठ गया है। इस मामले को लेकर लोगों में जबरदस्त गुस्सा है। गुस्साए परिजनों ने मंगलवार दोपहर बल्लभगढ़ में दिल्ली-मथुरा नेशनल हाइवे को जाम कर दिया फिलहाल पुलिस ने मुख्य आरोपी तौसीफ समेत दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

निकिता तोमर मर्डर केस का मुख्य आरोपी तौसिफ राजनीतिक रसूखदार परिवार से संबंध रखता है। तौसिफ के दादा कबीर अहमद विधायक रह चुके हैं, जबकि चाचा खुर्शीद अहमद हरियाणा के पूर्व मंत्री रहे हैं। वहीं, एक अन्य रिश्तेदार (रिश्ते में भाई) आफताब अहमद वर्तमान में कांग्रेस के नूंह (मेवात) से विधायक हैं। जानकारी के मुताबिक, 21 वर्षीय तौसिफ फिजियो थेरेपिस्ट का कोर्स कर रहा है जोकि थर्ड ईयर में है। वारदात में शामिल दूसरा आरोपी रेहान निवासी रेवासन जिला नूंह का रहने वाला है और वह तौसिफ का दोस्त है।

पुलिस ने निकिता हत्याकांड में पुलिस ने मुख्य आरोपी सहित दो को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने मंगलवार को दोनों को अदालत में पेश कर दो दिन की रिमांड पर लिया है। इसके बाद हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने फरीदाबाद के पुलिस कमिश्ननर को पीड़िता के परिवार को सुरक्षा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि आरोपियों के खिलाफ खड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। गृहमंत्री ने कहा कि परिवार की सुरक्षा के लिए फरीदाबाद पुलिस कमिश्नर से बात की गई है, जल्द ही उन्हें सुरक्षा दी जाएगी और आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। वहीं, पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह के अनुसार, पुलिस के पास आरोपियों के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं, जिनके आधार पर उन्हें कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी।

निकिता हत्याकांड के बाद बुधवार को अपना घर सोसायटी के बाहर पुलिस तैनात कर दी गई है। मृतका के परिजनों को सांत्वना देने के लिए लोग सुबह से ही पहुंचने शुरू हो गए हैं। बुधवार सुबह केंद्रीय मंत्री और भाजपा सांसद कृष्णपाल गुर्जर परिवार से मिलने उनके घर पहुंचे। जहां उन्होंने परिवार से बात कर उन्हें सांत्वना दिलाते हुए शोक व्यक्त किया और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का भरोसा दिलाया।

तौसीफ के घरवालों ने 2018 में दबाव बनाकर वापस कराया था केस
तौसीफ और निकिता दोनों फरीदाबाद के एक स्‍कूल में साथ पड़े थे। निकिता 12वीं की बोर्ड टॉपर्स में थी और सिविल सविर्सिज एग्‍जाम की तैयारी कर रही थी। 2018 में स्‍कूल खत्‍म होने के बाद दोनों अलग-अलग कॉलेज में पढ़ने लगे। पुलिस के अनुसार, उसी साल तौसीफ ने निकिता का अपहरण किया था। मामला दर्ज हुआ था लेकिन पंचायत के बाद वापस ले लिया गया। निकिता के परिवार का आरोप है कि उनपर तौसीफ के रिश्‍तेदारों ने दबाव बनाया था। नूंह में तौसीफ के परिवार का दबदबा है और निकिता के परिवार को भरोसा दिया गया था कि तौसीफ आगे कुछ नहीं करेगा।

निकिता के पिता ने बताया कि तौसीफ कई सालों से उनकी बेटी पर धर्म परिवर्तन कर उससे शादी करने का दबाव बना रहा था। निकिता पढ़ाई में हमेशा अव्वल आती थी। ऐसे में वो उससे बात भी नहीं करना पसंद करती थी। निकिता के पिता का दावा है कि आरोपित की मां पिछले दो साल से बेटी पर धर्म परिवर्तन का दबाव डाल रही थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES