टॉप न्यूज़

जिला प्रशासन ने धरना-प्रदर्शन के लिए नवा रायपुर में दी जगह , बूूढातालाब के सामने केवल 100 को ही अनुमति

धरना-प्रदर्श

रायपुरः लंबे समय से बूढ़ा तालाब धरना स्थल के चलते आम नागरिकों को परेशानी हो रही थी. इसे देखते हुए जिला प्रशासन की ओर से धरना प्रदर्शन स्थल को परिवर्तित किया गया है. जिला प्रशासन ने राज्योत्सव मैदान के सामने नया धरना स्थल निर्धारित किया है. वहीं बूढा तालाब के सामने के धरना स्थल पर अब केवल 100 की संख्या में ही आंदोलनकारी प्रदर्शन कर पाएंगे. इसके लिए प्रशासन से अनुमति लेनी होगी. नए आदेश के मुताबिक, वर्तमान धरना स्थल पर केवल शांतिपूर्ण आंदोलन की ही अनुमति रहेगी. यहां किसी भी प्रकार की रैली या जुलूस की अनुमति नहीं होगी.

यह भी पढ़ेंरू ट्वीट की वजह से विवादों में घिरे रमनरू जमीन पर भारत माता की तस्वीर की थी पोस्ट, कांग्रेस ने की माफी की मांगनये धरना स्थल राज्योत्सव मैदान के सामने स्थान्तरितरू कलेक्टर सौरभ कुमार ने बताया कि छत्तीसगढ़ चेम्बर ऑफ कॉमर्स, सराफा एसोसिएशन और स्थानीय पार्षद सहित आमजनों को बूढ़ातालाब धरना स्थल के कारण असुविधा हो रही है.

धरना प्रदर्शन स्थल को स्थानांतरित करने की मांग की जा रही थी. जन भावनाओं और सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए शहर के इस बूढा तालाब के सामने के धरना स्थल को नवा रायपुर के राज्योत्सव मैदान के सामने स्थान्तरित किया जा रहा है.

इस बारे में जिला प्रशासन ने आदेश भी जारी कर दिया है. अब बूढ़ा तालाब के सामने वाले स्थल पर केवल एक सौ लोग ही शांतिपूर्ण आंदोलन कर सकेंगे. एक सौ से ज्यादा की संख्या में प्रदर्शनकारियों को आंदोलन के लिये राज्योत्सव मैदान निर्धारित होगा.

बूढ़ा तालाब स्थल पर प्रदर्शन से आम नागरिक होते थे परेशानरू कलेक्टर ने बताया कि बूढ़ा तालाब के सामने के स्थल पर बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों के जमावड़े से आमजनों को भारी परेशानी उठानी पड़ रही थी. आने जाने की असुविधा, बार-बार जाम की स्थिति के साथ आस पास की दुकानें भी बंद करनी पड़ रही थी. जिससे लोगों को जरूरत की चीजों के लिए भी भटकना पड़ रहा था.

इसके साथ ही निकट ही संचालित दानी गर्लस स्कूल और सप्रे शाला के विद्यार्थियों को भी स्कूल आने जाने में परेशानी हो रही थी. जिससे उनकी पढ़ाई प्रभावित हो रही थी. लोगों की सुविधा के लिए स्थानीय पार्षद, जनप्रतिनिधियों और अन्य संगठनों की मांग पर धरना स्थल को नवा रायपुर राज्योत्सव मैदान के सामने स्थानांतरित किया गया है. साथ ही पुराने धरना स्थल पर प्रदर्शनकारियों की संख्या अधिकतम एक सौ निर्धारित की गई है.



Post Views:
7

Related Articles

Back to top button