देश दुनिया

उच्चरक्तचाप समस्या है तो उसका उपचार भी है, नियंत्रण पाने के लिए करे ये घरेलू उपाय

जब आपके खाने-पीने में असंतुलन हो जाता है और और शरीर में फैट और वसा की मात्रा बढ़ जाती है तो हाई बीपी होने के आसार भी बढ़ जाते हैं।

सबसे पहले तो आपको ये समझना होगा कि हाई बीपी है क्या, हाई ब्लड प्रेशर यानी कि उच्च रक्तचाप, आपका हृदय धमनियों के माध्यम से पूरे शरीर को खून भेजता है, शरीर की धमनियों में जो रक्त बहता है उसे ठीक तरह से बहने के लिए एक निश्चित प्रेशर की जरूरत होती है, मगर ये दबाव अगर बढ़ जाता है तो हाई ब्लड प्रेशर हो जाता है। और अगर दबाव कम हो जाता है तो बीपी लो हो जाता है। हाई बीपी की वजह होती है आपकी नसों में वसा का जम जाना। आज हम आपको हाई बीपी के लक्षण बताएंगे साथ ही वो उपाय बताएंगे जिससे आप अपना बीपी कम कर सकते हैं।

हाई ब्लड प्रेशर (उच्च रक्तचाप) क्या है?
जब आपके खाने-पीने में असंतुलन हो जाता है और और शरीर में फैट और वसा की मात्रा बढ़ जाती है तो हाई बीपी होने के आसार भी बढ़ जाते हैं।

हाई बीपी के कारण
जैसा कि हमने बताया कि हाई ब्लड प्रेशर असंतुलित खाने से होता है, इसके अलावा उन लोगों को भी हाई बीपी हो जाता है जो व्यायाम, खेल-कूद और कोई भी फिजिकल एक्टिविटी नहीं करते हैं, उन्हें हाई बीपी की समस्या होती है। इसके अलावा शुगर या दिल के मरीजों को भी हाई बीपी की समस्या हो जाती है। ज्यादा नमकीन चीजें खाने, या जंक फूड जैसे कि पिज्जा, बर्गर, मोमोज और नूडल्स आदि खाने से भी बीपी की समस्या हो सकती है। इसके अलावा धूम्रपान और शराब के सेवन से भी बीपी बढ़ सकता है। टेंशन लेने से भी बीपी बढ़ जाता है।

हाई ब्लड प्रेशर की वजह से हृदय से जुड़े रोग, और गुर्दे से जुड़े रोग की समस्या हो सकती है इसके अलावा आंखें खराब होने का भी खतरा होता है। हाई बीपी से बचने के क्या उपाया हैं और उसके लक्षण क्या हैं आइए जानते हैं।

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण
सिर दर्द

थकान
गुस्सा और चिड़चिड़ापन
तनाव
सीने में दर्द
सांस लेने में परेशानी
घबराहट
पैर सुन्न होना
कमजोरी
धुंधला दिखना

बीपी कम करने के घरेलू उपाय
उच्च रक्तचाप से राहत पाने के लिए लोग पहले घरेलू नुस्खे आजमाते हैं। चलिये जानते हैं कि ऐसे कौन-कौन-से घरेलू उपाय हैं जो उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में सहायता करते हैं-

  • एक चम्मच काली मिर्च पाउडर को गुनगुने पानी में घोल लें, और ये पानी दो-दो घंटे में पीते रहें।
  • उच्च रक्तचाप के नियंत्रण में तरबूज काफी लाभदायक है। तरबूज के बीज का सेवन करें।
  • हाई ब्लड प्रेशर के मरीज अगर नंगे पांव हरी घास पर 10-15 मिनट चलें तो उनका बीपी नॉर्मल हो जाता है।
  • पालक और गाजर का जूस पीने से भी बीपी कंट्रोल में रहता है।
  • मेथीदाना पाउडर सुबह-शाम पानी के साथ लेने पर बीपी कंट्रोल होता है।
  • अनार और टमाटर का जूस पीने से भी बीपी नियंत्रित होता है।
  • चुकंदर और मूली को छीलकर इसका जूस बनाकर पिएं, इससे भी बीपी कंट्रोल होता है।
  • करेला और सहजन की सब्जी खाएं, इससे हाई बीपी कंट्रोल में रहता है।
  • सुबह खाली पेट लहसुन खाएं।
  • आंवले के रस में शहद मिलाकर सुबह शाम लें।
  • यह उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए बहुत लाभदायक है। इससे हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण ठीक होते हैं।
  • जब बीपी बढ़ा हो तो एक गिलास पानी में आधा नींबू निचोड़कर तीन-तीन घंटे के अंतर पर पिएं।
  • पाँच तुलसी के पत्ती और दो नीम की पत्तियों को पीस लें। इसे एक गिलास पानी में घोल लें और सुबह खाली पेट पिएं।

कब जाएं डॉक्टर के पास?
अगर आपका बीपी 140 से ऊपर है और सीने में दर्द और भारीपन महसूस हो और सांस लेने में परेशानी हो। सिर दर्द हो और धुंधला दिखाई दे और कमजोरी फील हो तो बिना देर किए डॉक्टर से कंसल्ट करें। क्योंकि ये कभी भी घातक स्थिति में पहुंच सकता है।



Post Views:
3

Related Articles

Back to top button